अलर्ट: अब कॉल रिकॉर्ड करना होगा मुश्किल,गूगल उठाने जा रहा ….

नई दिल्ली :  कॉल रिकॉर्डिंग को लेकर कई लोग बहुत बेचैन रहते हैं। गूगल प्ले-स्टोर पर फ्री में कई सारे कॉल रिकॉर्डिंग वाले एप्स भी उपलब्ध हैं, हालांकि पिछले कुछ महीनों से गूगल ने कॉल रिकॉर्डिंग शुरू होते ही यूजर्स को अलर्ट देना शुरू कर दिया है और अब खबर है कि कंपनी इसे पूरी तरह से बंद करने जा रही है। इसकी शुरुआत 11 मई 2022 से होगी। आइए समझते हैं पूरे मामले को…
Google जल्द जारी करेगा नया अपडेट
एक रेडिट यूजर के दावे के मुताबिक गूगल जल्द एक अपडेट जारी करेगा जिसके बाद एंड्रॉयड फोन में कॉल रिकॉर्डिंग बंद हो जाएगी। बता दें कि आईफोन में कॉल रिकॉर्डिंग की सुविधा पहले से ही नहीं है। गूगल की नई पॉलिसी 11 मई से प्रभावी होगी जिसके बाद एंड्रॉयड फोन पर थर्ड पार्टी कॉल रिकॉर्डिंग बंद हो जाएगी।
एंड्रॉयड 10 के साथ भी गूगल ने की थी कोशिश
यह पहली बार नहीं है जब गूगल ने कॉल रिकॉर्डिंग को बंद करने की कोशिश की है। इससे पहले एंड्रॉयड 10 के साथ गूगल ने अपने फोन से कॉल रिकॉर्डिंग का फीचर हटा दिया था। Google का कहना है कि यूजर्स की प्राइवेसी और सिक्योरिटी के लिहाज से फोन में कॉल रिकॉर्डिंग का होना ठीक नहीं है। बता दें कि सभी देशों में कॉल रिकॉर्डिंग के लिए अलग-अलग कानून हैं। गूगल के इस फैसले के बाद कई थर्ड पार्टी एप जैसे ट्रूकॉलर और एसीआर फोन कॉल रिकॉर्ड करने के लिए एक्सेसिबिलिटी एपीआई का इस्तेमाल करने लगे, हालांकि Google जल्द ही एक्सेसिबिलिटी एपीआई का इस्तेमाल भी कॉल रिकॉर्ड के लिए बंद करने की तैयारी कर रहा है।
यूजर्स ऐसे कर सकेंगे कॉल रिकॉर्ड
गूगल के इस फैसले का मतलब यह नहीं है कि यूजर्स अब कॉल रिकॉर्ड ही नहीं कर पाएंगे। यदि आपके फोन में कॉल रिकॉर्डिंग की सुविधा है तो आप आराम से कॉल रिकॉर्ड कर सकेंगे, लेकिन किसी दूसरे एप के जरिए कॉल रिकॉर्ड नहीं कर पाएंगे। बता दें कि Samsung से लेकर OnePlus, Xiaomi जैसी तमाम कंपनियों के फोन में इन-बिल्ट कॉलिंग रिकॉर्डिंग की सुविधा मिलती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

सीएम के हस्तक्षेप से सुलझा ईस्ट बंगाल का मसला, इंवेस्टर बना इमामी ग्रुप

कोलकाता : आखिरकार ईस्टबंगाल की समस्या का समाधान मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की हस्तक्षेप के बाद कर लिया गया। अब ईस्ट बंगाल का इंवेस्टर इमामी समूह आगे पढ़ें »

ऊपर