प्रेमिका का भाई मेरी 13 साल की बेटी को भगा ले गया’…लिख पिता ने किया सुसाइड

इंदौर : मध्य प्रदेश के इंदौर के आजाद नगर थाना क्षेत्र से अवैध संबंध की बेहद ही दर्दनाक कहानी सामने आई है। पुलिस ने बताया राम सिंह (काल्पनिक नाम) का सोनी (काल्पनिक नाम) के बीच तीन साल से अवैध संबंध थे। इस दौरान सोनी का भाई राम सिंह की 13 साल की बेटी को लेकर भाग गया और पिछले एक साल से वो उसे अपने साथ गांव में रखे हुए है। जिसके बाद राम सिंह ने सुसाइड नोट छोड़कर अपने घर में फांसी लगाकर जान दे दी।
यह मामला आजाद नगर थाना क्षेत्र का है। यहां रहने वाले राम सिंह ने अपने ही घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। सुसाइड नोट के आधार पर जब पुलिस ने मामले की जांच शुरू की तो कई चौंकाने वाले खुलासे हुए। राम सिंह का पिछले 3 सालों से सोनी नाम की महिला से प्रेम संबंध चल रहा था। करीब एक साल पहले राम की प्रेमिका का भाई उसकी 13 साल की नाबालिग बेटी को भगाकर ले गया था।
राम इस मामले की शिकायत पुलिस से करना चाहता था लेकिन प्रेमिका ने उसे प्यार का हवाला देकर ऐसा करने से रोका और कहा कि उसका भाई उसकी बेटी से शादी करना चाहता है। राम ने प्रेमिका से कई बार बोला कि उसकी बेटी को वापस भेज दे, इस पर प्रेमिका नहीं मानी तो राम ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। मरने से पहले राम ने सुसाइड नोट भी लिखा जिसमें उसने अपनी प्रेमिका का जिक्र करते हुए उस पर प्रताड़ना का आरोप लगाया और अपनी बच्ची के अपहरण के बारे में भी बताया। जांच अधिकारी वीडी भारती ने बताया कि युवक ने सुसाइड नोट में लिखा कि ‘मैं राम सिंह सुसाइड कर रहा हूं। मेरी महिला मित्र सोनी जो कि बिचोली मर्दाना में रहती है, उसने मुझे तीन साल तक इस्तेमाल किया। उसका भाई मेरी 13 साल की बच्ची को अपने साथ गांव ले गया और सोनी ने मुझे बातों में लगाकर किसी तरह की कानूनी कार्रवाई नहीं करने दी। अब उसे अपनी इज्जत याद आ गई। मेरी मौत के मामले में सोनी , उसका पति, भाई और उसके मम्मी, पापा, जिम्मेदार हैं। इन्हे सजा मिलना चाहिए।’ पुलिस मामले की गंभीरता से जांच कर रही है। शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। पुलिस का कहना है कि दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

मंत्री पार्थ चटर्जी की बढ़ी मुश्किलें

कोलकाता : जैसे-जैसे दिन बीत रहे हैं स्कूल सेवा आयोग भर्ती से जुड़े भ्रष्टाचार के मामले में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी सरकार की आगे पढ़ें »

ऊपर