लड़की ने डीएल बनवाने के लिए दिए कागज, लड़के ने बनवा लिया निकाहनामा

मुंबईः बंबई हाईकोर्ट ने एक 37 वर्षीय व्यक्ति द्वारा बनाए गए निकाहनामा को चुनौती देने वाली 27 वर्षीय महिला की शादी को मान्यता देने से इनकार कर दिया है। महिला ने जोर देकर कहा कि उसने अपनी बड़ी बहन के एक दोस्त को ड्राइविंग लाइसेंस दिलाने में मदद करने के लिए अपने निजी दस्तावेज दिए। उसकी मदद से उसने यह साबित करने के लिए झूठे दस्तावेज तैयार किए कि उन्होंने इस्लामिक रीति-रिवाजों के अनुसार शादी की है।

हाईकोर्ट की नागपुर पीठ ने सोमवार को महाराष्ट्र के विदर्भ क्षेत्र के अमरावती में फैमिली कोर्ट के इस निष्कर्ष को बरकरार रखते हुए विवाह को अमान्य घोषित कर दिया। कोर्ट ने कहा कि विवाह को स्थापित करने के लिए कोई ठोस सबूत नहीं हैं।

जस्टिस एएस चंदुरकर और जीए सनप की बेंच ने कहा कि फैमिली कोर्ट ने यह निष्कर्ष निकाला कि कथित शादी की तारीख पर, चंद्रकला विवाह मंडल न तो रजिस्टर्ड था और न ही विवाह प्रमाण पत्र जारी करने के लिए अधिकृत था। आपको बता दें कि इसी विवाह केंद्र पर दोनों पर कथित तौर पर शादी होने का आरोप लगाया गया था।

न्यायाधीशों ने यह भी नोट किया कि आदमी ने केवल वही निकाहनामा की कार्बन प्रतियां कोर्ट में पेश कीं। कोर्ट ने फैसला सुनाया कि यह विवाह के प्रमाण के रूप में स्वीकार्य नहीं था। पीठ ने यह भी कहा कि काजी द्वारा निर्मित मूल निकाहनामा कार्बन प्रतियों से मेल नहीं खाता। ऐसे में इस तरह की विसंगतियों ने शादी के तथ्य के बारे में संदेह पैदा किया।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

लड़का या लड़की धीरे-धीरे सेक्स करने से किसको आता है ज्यादा मज़ा

कोलकाताः कई लोग सेक्स को धीरे-धीरे इस्तेमाल करना चाहते हैं और इसका मजा लेना चाहते हैं। कई लोग सेक्स के साथ बहुत ज्यादा एक्सपेरिमेंट करना नहीं आगे पढ़ें »

ऊपर