सोनिया से लेकर लालू, अखिलेश और माया तक….संविधान दिवस के एक भाषण से मोदी आज सबको सुना गए

नई दिल्लीः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संविधान दिवस के मौके पर संसद के केंद्रीय कक्ष से भाषण दिया। पीएम मोदी ने इस मौके पर विपक्ष पर निशाना साधा। पीएम मोदी ने कहा कि जब मैं सदन में 2015 में बोल रहा था, तब भी… विरोध आज नहीं हो रहा है, उस दिन भी हुआ था। यह 26 नवंबर कहां से ले आए। क्यों कर रहे हो। क्या जरूरत थी। बाबा साहब आंबेडकर का नाम और आपने मन में यह भाव उठे, देश यह सुनने के लिए तैयार नहीं है। अब भी बड़ा दिल रखकर खुले मन से बाबा साहब का पुण्य स्मरण के लिए तैयार न होना, चिंता का विषय है।

संविधान की भावना को चोट पहुंची है। संविधान की एक-एक धारा को भी चोट पहुंची है, जब राजनीतिक दल अपने आप में अपना लोकतांत्रिक कैरक्टर खो देते हैं। जो दल स्वयं में लोकतांत्रिक कैरक्टर खो चुके हों, वह लोकतंत्र की रक्षा कैसे कर सकते हैं। आज देश में कश्मीर से कन्याकुमार.. हिंदुस्तान के हर कोने में जाइए, भारत ऐसे संकट की तरफ बढ़ रहा है, जो संविधान को समर्पित लोगों के लिए चिंता का विषय है। लोकतंत्र के प्रति आस्था रखने वालों के लिए चिंता का विषय है। और वह है पारिवारिक पार्टियां।

​एक परिवार से एक से ज्यादा लोग राजनीति में न आएं

राजनीतिक दल पार्टी फॉर द फैमिली, पार्टी बाय द फैमिली.. और आगे कहने की जरूरत मुझे नहीं लगती है। जब मैं कहता हूं पारिवारिक पार्टियां। इसका मतलब मैं यह नहीं कहता हूं कि एक परिवार से एक से ज्यादा लोग राजनीति में न आएं.. योग्यता के आधार पर.. जनता के आशीर्वाद से.. किसी परिवार से एक से अधिक लोग राजनीति में जाएं.. इससे पार्टी परिवारवादी नहीं बन जाती है। लेकिन जो पार्टी पीढ़ी दर पीढ़ी एक परिवार चलाता रहे। पार्टी की सारी व्यवस्था परिवारों के पास रहे, वह लोकतंत्र स्वस्थ लोकतंत्र के लिए संकट होता है।
पीएम मोदी ने कहा कि आज का दिवस बाबासाहेब अम्बेडकर, डॉ राजेन्द्र प्रसाद जैसे दुरंदेशी महानुभावों का नमन करने का है। आज का दिवस इस सदन को प्रणाम करने का है। प्रधानमंत्री ने कहा कि आज पूज्य बापू को भी नमन करना है। आजादी के आंदोलन में जिन-जिन लोगों ने बलिदान दिया, उन सबको भी नमन करने का है।​

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

तृणमूल सांसद नहीं गये नागालैंड

कोलकाता : तृणमूल कांग्रेस के सांसद प्रनितनिधियों ने नागालैंड का अपना दौरा रद्द कर ​दिया। आज पार्टी के सांसद सुष्मिता देब, शांतनु सेन, अपरूपा पोद्दार आगे पढ़ें »

ऊपर