किन वजहों से इजराइल-फिलिस्तीन है आमने-सामने ? कौन दे रहा है हमास का साथ ?

नई दिल्ली: दुनिया के खतरनाक आतंकी संगठनों में शामिल ‘हमास’ ने इजराइल देश पर हमला कर दिया है। शनिवार(07 अक्टूबर) को हमास के आतंकियों ने इजराइल पर करीब एक साथ 5 हजार से अधिक रॉकेट दागे। इसके अलावा वहां घुसपैठ की और आम नागरिकों को मौत के घात उतार दिया। इस हमले में सैकड़ों इजराइल के लोग मारे गए। जिसके बाद इजराइल ने युद्ध का ऐलान कर हमला करने वाले आतंकियों के ठिकाने गाजा पर रॉकेट और एयर स्ट्राइक करना शुरू कर दिया। फिलिस्तीन में अन्य इस्लामिक संगठनों से हमास सबसे ताकतवर है। हमास की स्थापना इजराइल के खिलाफ विद्रोह करने की लिए की गई थी। आपको बताते हैं कि हमास कैसे इतना शक्तिशाली बना और इसकी इजराइल से किन मुद्दों को लेकर खून-खराबा जारी है।

बता दें कि इजराइल ने फिलिस्तीन और गाजा पट्टी की सीमा से लगे इलाको में रह रहे अपने नागरिकों के लिए  युद्ध को लेकर अलर्ट जारी कर दिया है। इन इलाकों में रह रहे नागरिकों से घरों के अंदर रहने को कहा गया है। हालांकि यह पहली बार नही हैं, जब फिलिस्तीनी हमास और इजराइल के बीच संघर्ष हो रहा है। इन दोनों देशों का विवाद कई सालों से चल रहा है।

कहां से शुरू हुआ विवाद ?
इन दोनों देशों के बीच विवाद की शुरुआत प्रथम विश्व युद्ध के दौरान हुई। उस्मानिया सल्तनत को हार का सामना करना पड़ा और मध्य-पूर्व में फिलिस्तीन नाम के हिस्से पर ब्रिटेन ने कब्जा कर लिया, जिसके बाद अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने ब्रिटेन को फिलिस्तीन के लिए राष्ट्रीय घर की व्यवस्था करने की जिम्मेदारी सौंपी। यहूदियों और अरब दोनों ने अपना- अपना दावा पेश किया और यहीं से दोनों देशों के बीच विवाद शुरू हो गया। इस विवाद को ब्रिटिश भी नहीं निपटा सकें। उसके बाद 1947 में यहूदियों और फिलिस्तीनियों का मामला संयुक्त राष्ट्र में पहुंचा और जहां यहूदियों की संख्या ज्यादा है, उसे इजराइल और बाकी बचे अरब बहुसंख्यकों को फिलिस्तीन देने पर फैसला किया है।

 अचानक हमास ने क्यों किया हमला ?
इजराइल का नियंत्रण वेस्ट बैंक और अल अक्शा मस्जिद पर है, जिसे हमास इजराइल के कब्जे से मुक्त कराना चाहता है। हमास का कहना है कि मई 2021 में इजरायल ने यरुशलम में मुसलमानों के पवित्र अल अक्सा मस्जिद को नुकसान पहुंचाया था। इजरायल ने गाजा पट्टी में कई दशकों से की घेराबंदी कर रखी है, जिससे वहां रहने वाले लोगों को अनाज और जरूरी दवाओं की भीषण तंगी का सामना करना पड़ता है। इन सब का बदला लेने के लिए हमास ने इजराइल पर हमला किया।

हमास के पास कितनी ताकत है ?
हमास इजराइल सेना के आगे कहीं नहीं टिकता है, लेकिन उसे नजरअंदाज करना इजराइल के लिए भारी पड़ सकता है। एक रिपोर्ट के अनुसार हमास रॉकेट से लेकर मोर्टार और ड्रोन अटैक तक से लैस है। हमास अपने हथियारों का निर्माण गाजा पट्टी में ही करता है। वहीं इजराइल दावा करता है कि हमास को ईरान से हथियार बनाने की मदद मिलती है। इजराइल यह भी दावा करता है कि उसे कतर जैसे कई इस्लामिक देशों से फंडिंग मिलती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बदलते मौसम में शरीर में एनर्जी की लगती है कमी ? इन बातों का रखें ध्यान

कोलकाता:  दिसंबर का महिना आ गया है। धीरे-धीरे ठंड भी बढ़ रही है। ऐसे समय में बदलते मौसम के कारण शरीर में एनर्जी की कमी आगे पढ़ें »

आज देश के पहले राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद की जयंती, इस तरह से गुजरा आखिरी समय

नई दिल्ली: देश के पहले राष्ट्रपति डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद की आज(3 दिसंबर)  जयंती है। उनका जन्म बंगाल प्रेसीडेंसी में जेरादेई में 03 दिसंबर 1884 को हुआ आगे पढ़ें »

ऊपर