कोरोना ने तबाह किया परिवार, 18 दिन में पांच लोगों की मौत

देवासः मध्य प्रदेश के देवास जिले में एक परिवार पर कोरोना कहर बनकर टूटा है। 18 दिन के अंदर परिवार पूरी तरह से उजड़ गया है। कोरोना से बीते 18 दिनों में परिवार के चार सदस्यों की मौत हो गई। वहीं, घर की एक बहू सदमे में फांसी लगा ली है। उसके बाद परिवार में सिर्फ एक बुजुर्ग और मासूम बच्चे बचे हैं। रविवार को परिवार की बड़ी बहू का निधन हो गया है। दरअसल, देवास के मैनाश्री नगर में रहने वाले बालकिशन गर्ग के परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट गया है। वह अग्रवाल समाज देवास के अध्यक्ष हैं। सबसे पहले उनकी पत्नी चंद्रकला देवी का निधन कोरोना से हुआ था। 19 अप्रैल को बड़े बेटे संजय गर्ग का कोरोना से निधन हो गया। उसके बाद 20 अप्रैल को छोटे बेटे स्वपनेश गर्ग का भी कोरोना से निधन हो गया। पत्नी और दो बेटों के निधन से बालकिशन गर्ग टूट गए। वहीं, परिवार में कोहराम मच गया।
छोटी बहू फांसी के फंदे पर झूल गई
परिवार पर आई आफत को घर की छोटी बहू रेखा गर्ग बर्दाश्त नहीं कर पाई। उसने 21 अप्रैल को सदमे में अपनी जान दे दी। उसके बाद घर की स्थिति और खराब हो गई। परिवार में बुजुर्ग बालकिशन गर्ग और बड़ी बहू रितु बची थी। साथ में चार छोटे-छोटे बच्चे बचे हैं।

बड़ी बहू का भी निधन
इस दौरान बड़ी बहू रितु गर्ग भी कोरोना से संक्रमित हो गईं। संक्रमित होने के बाद इंदौर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। रविवार को तबीयत ज्यादा बिगड़ गई, उसके बाद उन्होंने अस्पताल में अंतिम सांस ली है। अब परिवार में सिर्फ बालकिशन गर्ग और दोनों बेटों के चार छोटे बच्चे ही बचे हैं। सभी महिला सदस्यों को कोरोना ने लील लिया है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

विश्व टेस्ट चैंपियनशिप: पहली बार तटस्थ स्थल पर मैच खेलेगा भारत

नई दिल्ली : भारत और न्यूजीलैंड के बीच अगले महीने  विश्व टेस्ट चैंपियनशिप (डब्ल्यूटीसी) का फाइनल होगा। जब दोनों टीम रोज बाउल में उतरेगी तो आगे पढ़ें »

बांग्लादेश बनाम श्रीलंका : तेज गेंदगाज रुबेल और महमूद को नहीं मिली जगह

नई दिल्ली : बांग्लादेश और श्रीलंका के खिलाफ होने वाली वनडे सीरीज में तेज गेंदगाज रुबेल हुसैन और हसन महमूद को शामिल नहीं किया गया आगे पढ़ें »

ऊपर