बैंक डूबा तो 90 दिन में मिल जाएगी पांच लाख रुपये तक की जमा राशि

नई दिल्ली : मंत्रिमंडल द्वारा लिए गए निर्णयों पर आज केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रेस वार्ता की। केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर भी संवाददाता सम्मेलन में शामिल रहे। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) द्वारा वित्त वर्ष 2021 के लिए भारत के विकास अनुमान को तीन फीसदी कम कर 9.5 फीसदी पर करने के फैसले के अगले ही दिन सीतारमण ने प्रेस वार्ता की। इससे पहले आईएमएफ का अनुमान 12.5 फीसदी का था।

प्रमुख बातें:

1. डीआईसीजीसी विधेयक

* बैंक ग्राहकों के हित को ध्यान में रखते हुए डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉर्पोरेशन एक्ट (DICGC) संशोधन बिल को मंजूरी दे दी गई है। इसके जरिए बंद हो चुके बैकों के ग्राहकों को बड़ी राहत मिलेगी। ऐसा इसलिए क्योंकि अब बैंक के डूबने की स्थिति पर जमाकर्ताओं को 90 दिनों के भीतर ही पांच लाख रुपये मिल जाएंगे।

*  यदि बैंक का लाइसेंस रद्द होता है तो बैंक ग्राहकों को पांच लाख रुपये तक का डिपॉजिट इंश्योरेंस मिलता है। यह नियम चार फरवरी 2020 से लागू है। डिपॉजिट इंश्योरेंस में 27 साल बाद पहली बार बदलाव किया गया है।

*  वित्त मंत्री ने बताया कि संशोधित डीआईसीजीसी अधिनियम के साथ, जमा बीमा कवरेज बढ़कर कुल बैंक खाताधारकों का 98.3 फीसदी हो जाएगा।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

ब्रेकिंग : डॉ. सुकांत मजुमदार को केंद्र ने दी जेड श्रेणी की सुरक्षा

कोलकाता : बंगाल भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सुकांत मजुमदार को केंद्र ने दी जेड श्रेणी की सुरक्षा। सीआईएसएफ के 35 जवानों की सुरक्षा से घिरेंगे आगे पढ़ें »

ऊपर