रिश्ते शर्मसार! एक महीने से रोज पिता ही कर रहा था बेटी के साथ…

ग्वालियरः ग्वालियर में हैवानियत का एक ऐसा मामला सामने आया है जिसने बाप-बेटी के रिश्ते को शर्मसार करके रख दिया है। शहर के गोला मंदिर एरिया में रहने वाली नाबालिग बेटी के साथ बीते एक महीने से उसका पिता रोज बालात्कार कर रहा था। हद तो तब हो गई जब पिता के साथ उसके दोस्त ने भी नाबालिग को नशीला पदार्थ खिलाकर दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया। जब पीड़ा हद से ज्यादा बढ़ गई तो नाबालिग ने चाइल्ड लाइन में फोन कर शिकायत की, जिसके बाद पुलिस ने नाबालिग की शिकायत पर धारा 376 और पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज कर आरोपी पिता को हिरासत में ले लिया है। वहीं पिता का दोस्त अभी फरार है जिसकी तालाश में पुलिस लगी हुई है।

8वीं की छात्रा है पीड़िता

एसपी अमित सांघी ने बताया कि चाइल्ड लाइन ने पीड़ित नाबालिग की काउंसलिंग की है। उन्होंने बताया कि पीड़िता 8वीं क्लास में पढ़ती है, वो अपने पिता और अपनी बहन के साथ उस घर में रहती है। करीब एक महीने पहले रात में जब पीड़िता अपने कमरे में सो रही थी तभी उसके पिता ने कमरे में आकर उसके साथ अश्लील हरकत की और विरोध करने पर जान से मारने की धमकी देते हुए अपनी ही बेटी का रेप किया इसके बाद पिता आए दिन बेटी को अपनी हवस का शिकार बनाता रहा, यहां तक कि पिता ने बेटी को अपने दोस्त के घर भी छोड़ दिया, और पिता के दोस्त कल्ला ने भी नशीला पदार्थ खिलाकर पीड़िता का दुष्कर्म किया।

चाइल्ड लाइन में इस मामले की शिकायत की

इसी दौरान नाबालिग बच्ची को जब असहनीय पीड़ा हुई तो उसने सारी आपबीती अपनी मां को सुनाई, और फिर नाबालिग ने चाइल्ड लाइन में इस मामले की शिकायत की, जिसके बाद चाइल्ड लाइन ने इसकी जानकारी महिला बाल विकास और पुलिस को दी। सारे मामले के सामने आने के बाद पुलिस ने आरोपी पिता के खिलाफ धारा 376 और पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

rape

बुजुर्ग तांत्रिक ने नाबालिग बच्ची के साथ किया दुष्कर्म,‌ फिर…

अमरोहाः उत्तर प्रदेश के अमरोहा से एक नाबालिग बच्ची के साथ दुष्कर्म का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि बच्ची के साथ आगे पढ़ें »

जब मनचले ने लेडी पुल‍िस से कहा, ‘इतनी पतली हो, रायफल कैसे संभालती हो!

फरीदपुरः उत्तर प्रदेश में महिलाओं से छेड़छाड़ के मामले दिन रोज बढ़ रहे है। अब तो मनचले बदमाशों का इतना साहस बढ़ गया है कि आगे पढ़ें »

ऊपर