डीआरडीओ करेगा ‘के-4’ मिसाइल का परीक्षण, पनडुब्बी से होगा परमाणु हमला

k-4 missile

नई दिल्ली : देश के सैन्य श‌‌क्ति को बढ़ाने पर काफी जोर दिया जा रहा है जिसके तहत डीआरडीओ 8 नवंबर को आंध्र प्रदेश के तट पर परमाणु मिसाइल ‘के-4’ का परीक्षण करेगा। यह मिसाइल 3500 किलोमीटर की दूरी तक दुश्मन के ठिकानों को निशाना बना सकती है। सूत्रों के अनुसार, इस मिसाइल का परीक्षण आंध्र प्रदेश तट के पास पानी के नीचे स्थित प्लेटफॉर्म से किया जाएगा। डीआरडीओ यह मिसाइल सिस्टम अरिहंत श्रेणी की स्वदेशी परमाणु पनडुब्बियों के लिए विकसित कर रहा है। पनडुब्बियां भारत के परमाणु हमला करने की क्षमता का मुख्य आधार होगीं।

भारतीय नौसेना के लिए विकसित

जानकारी के मुताबिक, के-4 परमाणु मिसाइल प्रणाली रक्षा एवं अनुसंधान विकास संस्थान (डीआरडीओ) ने तैयार किया है। डीआरडीओ मिसाइल लॉन्च के आधुनिक तथा उन्नत प्रणाली का परीक्षण करेगा। यह पानी के नीचे से पनडुब्बी की सहयता से दागी जाने वाली मिसाइलों में से एक है। के-4 परमाणु पनडुब्बी मिसाइलों से पहले भारत मिसाइल बी-5 बना चुका है। ये 700 किलोमीटर तक वार करने में सक्षम है। फिलहाल यह स्पष्ट नहीं है कि डीआरडीओ मिसाइल की पूर्ण क्षमता यानी 3500 किलोमीटर दूरी तक इसका परीक्षण करेगा या कम दूरी वाले लक्ष्य को निशाना बनाएगा।

इसका लॉन्च एक बार ही किया जाएगा

डीआरडीओ ने के-4 मिसाइल परीक्षण की योजना पिछले महीने करने वाला था, लेकिन कुछ कारणों से इसे स्थगित कर दिया गया। बताया जा रहा है कि डीआरडीओ आने वाले कुछ हफ्तों में अग्नि -3 और ब्रह्मोस मिसाइलों का परीक्षण कर सकता है। सूत्रों ने बताया कि के-4 मिसाइल को अभी तैयार किया जा रहा है। पनडुब्बी से इसका लॉन्च एक बार किया जाएगा, जब यह तैनाती के लिए तैयार होगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

शतरंज पर नहीं पड़ा कोविड-19 का असर, अन्य खेल ठप पड़े

चेन्नई : ऐसे समय में जब कोविड-19 महामारी के चलते दुनिया भर में खेल गतिविधियां ठप्प पड़ी हैं, तो शतरंज एक ऐसा खेल है जो आगे पढ़ें »

भारत को दो विश्व कप जिताने वाले कप्तान ने कहा, पद्म श्री नहीं, सरकारी नौकरी चाहिए

नई दिल्ली : भारत को दो बार ब्लाइंड वर्ल्ड कप क्रिकेट जिताने वाले कप्तान शेखर नाइक इस समय वित्तीय संकट से जूझ रहे हैं। यही आगे पढ़ें »

ऊपर