राशन कार्ड हो या न हो, केजरीवाल सरकार हर गरीब को देगी 10 किलो राशन मुफ्त

नई दिल्ली : कोरोना की दूसरी लहर देश में आफत बनकर आई है, लेकिन बीते कुछ दिनों से संक्रमण के मामलों में कमी देखी जा रही है। राजधानी दिल्ली में पहले से हालात थोड़ा सुधरे हैं, लेकिन मौत के आंकड़े अभी भी परेशान करने वाले हैं। दिल्ली के हालात पर मंगलवार को सीएम अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने कहा कि इस संकट के वक्त में दिल्ली सरकार चार कदम उठाने जा रही है।
1. सीएम ने कहा कि जिनके पास राशन कार्ड है, पहले उनसे थोड़े पैसे लिए जाते थे, लेकिन अब उनसे पैसा नहीं लिया जाएगा। हर कार्डधारी को 10 किलो मुफ्त राशन मिलेगा। इसके अलावा जिनके पास राशन कार्ड नहीं है, अगर वो बताएंगे कि उन्हें राशन की जरूरत है तो उन्हें भी राशन मुफ्त दिया जाएगा।
केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में 72,00,000 राशन कार्ड धारकों को इस महीने से राशन मुफ्त में दिया जाएगा उनसे पैसे नहीं लिए जाएंगे। केंद्र की तरफ से भी इन राशन कार्ड धारकों को 5 किलो राशन मुफ्त में मिल रहा है। अब उन्हें इस महीने 10 किलो राशन मुफ्त में मिलेगा।
2. सीएम ने कहा कि कोरोना के खिलाफ जारी इस जंग में कुछ परिवार बेहद मुश्किल हालातों का सामना कर रहे हैं। प्रत्येक परिवार को जिसमें किसी की मौत कोरोना के कारण हुई है, अनुग्रह राशि के रूप में 50,000 रुपये दिए जाएंगे।
3. जिस परिवार में कमाने वाले व्यक्ति की कोरोना से मौत हुई उस परिवार को ₹50000 मुआवजे के साथ-साथ 2500 रुपये महीना पेंशन दी जाएगी।
4. ऐसे बच्चे जिनके दोनों मां बाप की मौत हो गई है उनके बच्चों को 25 साल उम्र तक हर महीने 2500 रुपये मिलेंगे। इसके अलावा शिक्षा का सारा खर्च दिल्ली सरकार उठाएगी। सीएम केजरीवाल ने कहा कि पिछले 4 से 5 दिन के अंदर मैंने और मेरे मंत्रियों ने बैठकर इस पर काफी विचार मंथन किया। हमने यह देखने की कोशिश की कि लोग कहां-कहां मुसीबत में हैं और कहां-कहां से पैसा बचा सकते हैं। सभी जगहों से पैसा निकाल कर यह योजना जनता के लिए बनाई है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

9 महीने बाद खुल सकता है टाला ब्रिज

ब्रिज का आधा निर्माण कार्य हुआ पूरा विधायक ने लिया निर्माण कार्य का जायजा कोलकाता : अब मात्र 9 महीने बाद निर्माणाधीन 4 लेन वाला टाला ब्रिज आगे पढ़ें »

महिलाएं हमेशा सेक्स के बारे में क्यों सोचती हैं…

कोलकाता : 'पुरुष सोचते हैं, जबकि महिलाएं चाहती हैं।' वे दिन गए, जब 'सेक्स की डिमांड' को विशेष रूप से एक पुरुष की विशेषता माना आगे पढ़ें »

ऊपर