एम्स डायरेक्टर का अलर्ट : आरटी-पीसीआर रिपोर्ट निगेटिव होने के बाद भी हो सकता है कोरोना

नई दिल्ली : कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन आरटी-पीसीआर टेस्ट में भी पकड़ में नहीं आ रहा है। कई लोगों में कोरोना के लक्षण दिखने के बावजूद उनकी रिपोर्ट निगेटिव है, यानी उनकी रिपोर्ट फॉल्स निगेटिव है। देश की कोविड-19 टास्क फोर्स के मेंबर और एम्स के डायरेक्टर डॉ. रणदीप गुलेरिया का कहना है कि अब आरटी-पीसीआर टेस्ट निगेटिव आने के बावजूद जिन लोगों में कोरोना के पारंपरिक लक्षण हैं, उनका भी कोरोना के तय प्रोटोकॉल के तहत इलाज किया जाना चाहिए। कोरोना वायरस का यह नया स्ट्रेन हद से ज्यादा संक्रामक है और संक्रमित मरीज के संपर्क में केवल 1 मिनट रहने से ही दूसरा व्यक्ति भी संक्रमित हो रहा है।
टेस्टिंग ज्यादा होने की वजह से रिपोर्ट आने में देरी हो सकती है
डॉ. गुलेरिया का कहना है कि कोरोना मामलों की बढ़ती तादाद के चलते टेस्ट रिपोर्ट आने में कई दिनों की देरी हो रही है। ऐसे मामलों में डॉक्टर्स को क्लीनिको-रेडियोलॉजिकल डायग्नोसिस करना चाहिए। अगर ऐसे लोगों के सीटी स्कैन में कोरोना के परंपरागत लक्षण दिखते हैं तो डॉक्टर्स को फौरन उनका कोरोना प्रोटोकॉल के तहत इलाज शुरू कर देना चाहिए।

शेयर करें

मुख्य समाचार

क्या रात में ब्रा पहन कर सोना चाहिए? जानें इस पर क्या है एक्सपर्ट की राय

कोलकाता : अक्सर महिलाएं इस बात को लेकर काफी परेशान रहती हैं कि क्या रात को ब्रा उतार कर सोना चाहिए या नहीं। जहां कुछ आगे पढ़ें »

लोकल ट्रेनें बंद : रेलवे हॉकरों के सामने एक बार फिर जीने-मरने का सवाल

कब रेलवे स्टेशनों पर होगी चमक, दुकानदार हैं इंतजार में सियालदह से 3 शाखाओं में ट्रेनों में हॉकरी करते हैं 37 हजार हॉकर हावड़ा/कोलकाता : आगे पढ़ें »

ऊपर