गुस्साई सरकार, कहा- जितनी छूट दी है, सब वापस ले लेंगे

नई दिल्लीः देश में कोरोना के मामले कम होने पर केंद्र और राज्य सरकारों ने पाबंदियों में ढील देनी शुरू कर दी। अनलॉक का असर ये हुआ कि कई लोग मनमानी करने लगे। बाजारों और टूरिस्ट प्लेस में भीड़ दिखाई देने लगी है। हालात ऐसे बने कि सरकार को इस पर चिंता जतानी पड़ गई। जॉइंट सेक्रेटरी लव अग्रवाल ने कोरोना के हालात पर होने वाली नियमित प्रेस कॉन्फ्रेंस में मंगलवार को कहा कि कोरोना की दूसरी लहर सीमित दायरे में ही सही, लेकिन अब भी मौजूद है। हिल स्टेशनों पर भारी भीड़ का जिक्र कर उन्होंने कहा कि ऐसा करना अब तक के फायदे को कम कर सकता है। यदि प्रोटोकॉल का पालन नहीं किया जाता है तो हम पाबंदियों में दी गई ढील को फिर से खत्म कर सकते हैं।

सूत्रों के मुताबिक, स्वास्थ्य मंत्रालय ने शिमला और मनाली में कोरोना गाइडलाइंस का बड़े पैमाने पर उल्लंघन करने को लेकर हिमाचल प्रदेश सरकार को पत्र भी लिखा है।सबसे ज्यादा पॉजिटिविटी रेट वाले 73 जिलों और इनके राज्यों को भी पत्र लिखा गया है।

आईसीएमआर के डायरेक्टर डॉ. बलराम भार्गव ने कहा कि हिल स्टेशनों से आ रहीं तस्वीरें भयावह हैं। लोगों को कोरोना से बचाव के लिए जरूरी व्यवहार का ध्यान रखना चाहिए। प्रेस कॉन्फ्रेंस में ऐसी कुछ फोटो भी दिखाई गईं।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि देश में पिछले 9 दिन से लगातार 50 हजार से कम मामले रिपोर्ट हो रहे हैं। देश में कोरोना वायरस के 80% नए मामले 90 जिलों से आ रहे हैं। महाराष्ट्र, तमिलनाडु, केरल, ओडिशा, आंध्र प्रदेश, असम, कर्नाटक में ज्यादा केस सामने आ रहे हैं। कुछ जिलों में ज्यादा संक्रमण देखा जाए तो हमें मानकर चलना पड़ेगा कि दूसरी लहर है। देश में कुछ​ जिले ऐसे हैं, जहां पॉजिटिविटी रेट 10% से ज्यादा है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

कई अस्पतालों को डिस्काउंट का निर्देश

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः वेस्ट बंगाल क्लिनिकल इस्टेब्लिशमेंट रेग्युलेटरी कमिशन में अधिक बिल बनाने को लेकर शिकायतें पहुंची थीं। आमरी ढाकुरिया में उत्पल राय ने बिल को आगे पढ़ें »

ऊपर