कोरोना की दूसरी लहर, इस शहर में लिया गया ये बड़ा कदम, अब मॉल में एंट्री से पहले होगा टेस्ट

मुंबईः मुंबई और महाराष्ट्र में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए महाराष्ट्र सरकार के साथ-साथ स्थानीय प्रशासन भी मुस्तैदी के साथ कोरोना के खिलाफ जंग में जुटा हुआ है। बीते 24 घंटों में मुंबई शहर के अंदर 2877 मामले सामने आए हैं। जबकि 8 लोगों की मौत हुई है। शहर में अब तक 11 हज़ार 559 मौतें हो चुकी हैं। इसी बात के मद्देनजर बीएमसी ने कुछ नई गाइडलाइन जारी की हैं। जिनके मुताबिक अब मुंबईकरों को मॉल में जाने के पहले करवाना होगा कोरोना टेस्ट।
मॉल में एंट्री के पहले कोरोना टेस्ट
मुंबई में बढ़ते कॉविड केसेस को देखते हुए देश की सबसे अमीर महानगरपालिका यानी बीएमसी ने अब मुंबईकरों के लिए नया आदेश जारी किया है। इसके मुताबिक शहर के किसी भी मॉल में प्रवेश करने के पहले तमाम नागरिकों को कोरोना टेस्ट अनिवार्य रूप से करवाना होगा। इसके लिए बीएमसी के कर्मचारी मॉल के बाहर स्वाब लेने के लिए मौजूद रहेंगे।
नो टेस्ट, नो एंट्री
बीएमसी ने यह भी स्पष्ट किया है कि जो भी व्यक्ति कोरोना का टेस्ट नहीं करवाया जाए उसे मॉल में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। सभी को रैपिड एंटीजन टेस्ट करवाना होगा।
बीएमसी ने बढ़ाई कांटेक्ट ट्रेसिंग
मुंबई में कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या को गंभीरता से लेते हुए बीएमसी ने अब कांटेक्ट ट्रेसिंग का दायरा बढ़ा दिया है। अब तक बीएमसी कोरोना संक्रमित के परिवार वालों और पड़ोसियों को ट्रेस करती थी। अब इसका दायरा बढ़ाते हुए रिश्तेदारों, दोस्तों और सहयोगी कर्मचारियों को ट्रेस कर उन्हें क्वारंटाइन किया जाएगा
महाराष्ट्र में रिकॉर्ड केसेस
महाराष्ट्र में कोरोना मामलों ने बीते 6 महीनों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। बीते 24 घंटों में अब तक राज्य में सबसे ज्यादा कोरोना के मामले दर्ज किए गए हैं। महाराष्ट्र में एक दिन के अंदर 25हज़ार 833 नए कोरोना के मामले सामने आए हैं जबकि 58 लोगों की मौत हुई है। राज्य में अब तक कोरोना की कुल मरीजों की संख्या 23 लाख 96 हज़ार 340 तक पहुंच चुकी है। वहीं कुल मौतों का आंकड़ा 53 हज़ार 138 तक पहुंच चुका है।
पिछले साल का टूटा रिकॉर्ड
कोरोना के बढ़ते मामलों ने सरकार की चिंता बढ़ा दी है। मुंबई शहर में जहां 2877 नए मामले सामने आए हैं। इस आंकड़े ने साल 2020 के अक्टूबर महीने में आए 2848 कोरोना मामलों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। वहीं अगर राज्य के मामलों की बात करें तो गत वर्ष सितंबर महीने में सबसे ज्यादा 24 हज़ार 896 मामले आये थे। जबकि महाराष्ट्र में बीते एक दिन के भीतर 25 हज़ार 833 नए मामले सामने आए हैं। राज्य के कोरोना सर्विलांस अधिकारी डॉ दिलीप आवटे ने बताया कि बीते साल सितंबर महीने में राज्य में कोरोना पीक पर था। पांच महीने बाद फिर से राज्य में इतनी बड़ी संख्या में मरीज मिले हैं।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

सुबह उठते ही क्यों होती है थकान, इन बातों को जानने के बाद मिल सकती है समस्या से मुक्ति

कोलकाताः कभी-कभी ऐसा होता है कि सुबह उठते ही हमारे शरीर में बिना किसी वजह के दर्द होने लगता है या हम पूरे दिन थकान आगे पढ़ें »

अर्द्धसैनिक बल की अतिरिक्त 71 कंपनियां बंगाल में तैनात

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : राज्य में चौथे चरण के चुनाव के बाद अतिरिक्त 71 अर्द्धसैनिक बल की कंपनियों को राज्य में तैनात किया गया है। चुनाव आगे पढ़ें »

ऊपर