कोरोना संकट ने रफ्तार धीमी की है लेकिन आज भी हमारा संकल्प है आत्मनिर्भर भारत

नई दिल्ली :प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज सीएसआईआर की सालाना बैठक में हिस्सा लिया और देश की जनता को संबोधित किया। पीएम मोदी ने इस बैठक के माध्यम से स्वदेशी वैज्ञानिकों को आभार जताया और कहा कि एक साल में कोरोना किट बनाकर भारत को आत्मनिर्भर बनाया गया।
– सदी की सबसे बड़ी चुनौती कोरोना
बैठक में पीएम मोदी ने कोरोना की सदी की सबसे बड़ी चुनौती बताया और कहा कि इतिहास गवाह है कि जब भी जब-जब मानवता पर कोई संकट आया है तो विज्ञान ने बेहतर भविष्य के रास्ते तैयार कर दिए हैं। पीएम मोदी ने आगे कहा कि बीती शताब्दी का अनुभव है कि जब पहले कोई खोज दुनिया के दूसरे देशों में होती थी तो भारत को उसके लिए कई-कई साल का इंतजार करना पड़ता था। लेकिन आज हमारे देश के वैज्ञानिक दूसरे देशों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल रहे हैं, उतनी ही तेज गति से काम कर रहे हैं। पीएम ने आगे कहा कि हमारी इस संस्था ने देश को कितनी ही प्रतिभाएं दी हैं, कितने ही वैज्ञानिक दिए हैं। शांतिस्वरूप भटनागर जैसे महान वैज्ञानिक ने इस संस्था को नेतृत्व दिया है। उन्होंने आगे कहा कि आज भारत सस्टेनेबल डेवलेपमेंट और क्लीन एनर्जी के क्षेत्र में दुनिया को रास्ता दिखा रहा है। आज हम सॉफ्टवेयर से लेकर सैटेलाइट्स तक, दूसरे देशों के विकास को भी गति दे रहे हैं, दुनिया के विकास में प्रमुख इंजन की भूमिका निभा रहे हैं l

शेयर करें

मुख्य समाचार

साल्टलेक सेक्टर-5 स्टेशन का भी निजीकरण

अब बंधन बैंक का लगा स्टेशन पर नाम कोलकाताः मेट्रो रेलवे की ओर से कई स्टेशनों को निजीकरण किए जाने की पहल पहले ही गई है। आगे पढ़ें »

महिला को डायन करार देकर पीटने का आरोप

मिदनापुर: पश्चिम मिदनापुर जिले के जंगलमहल इलाके में एक बार फिर से एक महिला को डायन करार देते हुए उसे बुरी तरह से पीटे जाने आगे पढ़ें »

ऊपर