नए अध्यक्ष की तलाश में कांग्रेस की बैठक, बड़ा प्रश्न – ‘पार्टी अहम या पुत्र…’

– बागी नेताओं के साथ महीनों से चली आ रही अंदुरुनी कलह को बैठक में खत्म करने की कोशिश की जा सकती है

नई दिल्ली : कांग्रेस में नेतृत्व संकट और अंदुरुनी कलह के बीच पार्टी के नए अध्यक्ष को चुनने की प्रक्रिया शुरू होने वाली है। कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गांधी नए अध्यक्ष के चुनाव के लिए पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात करेंगी। सूत्रों के मुताबिक, शनिवार से शुरू होने वाली मुलाकात का यह दौर अगले दस दिन तक चलने की योजना है। सुरजेवाला ने शुक्रवार को जोर देकर कहा, ‘99.9 प्रतिशत’ नेता चाहते हैं कि राहुल गांधी पार्टी अध्यक्ष के रूप में वापसी करें।

हालांकि, कई वरिष्ट नेता इस वक्तव्य से असंतुष्ट प्रतीत हुए। बिहार में विपक्षी महागठबंधन का नेतृत्व कर रहे राजद के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से शुक्रवार को अपील की कि वह अपने राजनीतिक उत्तराधिकारी के बारे में निर्णय लेते वक्त पुत्र मोह को त्याग दें। बता दें कि विपक्षी महागठबंधन में कांग्रेस भी शामिल है।

राहुल पर कटाक्ष, सोनिया की तारीफ

राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद ने कहा, ‘कांग्रेस पार्टी की बैठक होने जा रही है। पता नहीं उस बैठक का नतीजा क्या निकलेगा, लेकिन यह स्पष्ट है कि कांग्रेस की हालत बिना पतवार के नाव की तरह हो गई है, कोई इसका खेवनहार नहीं है। यह स्पष्ट हो चुका है कि राहुल गांधी में लोगों को उत्साहित करने की क्षमता नहीं है। जनता की बात तो छोड़ दीजिए, उनकी पार्टी के लोगों का ही भरोसा उन पर नहीं है इसलिए लोग कांग्रेस पार्टी से मुंह मोड़ रहे हैं।’

वहीं, उन्होंने सोनिया गांधी की तारीफ करते हुए कहा, ‘खराब स्वास्थ्य के बावजूद सोनिया जी अध्यक्ष के रूप में किसी तरह पार्टी को खींच रही हैं। मैं उनकी इज्जत करता हूं। मुझे याद है सीताराम केसरी के जमाने में पार्टी किस तरह डूबती जा रही थी, वैसी हालत में उन्होंने कांग्रेस पार्टी की कमान संभाली थी और पार्टी को सत्ता में पहुंचा दिया था हालांकि उनके विदेशी मूल को लेकर काफी बवाल हुआ था।’

कांग्रेस पर बड़ा हमला
कांग्रेस पार्टी में सही नेतृत्व को लेकर भी शिवानंद ने गंभीर संदेह व्यक्त करते हुए कहा, ‘आज सोनिया जी के सामने एक यक्ष प्रश्न है-पार्टी या पुत्र या यूं कहिए कि पुत्र या लोकतंत्र। कांग्रेस पार्टी की महत्वपूर्ण बैठक होने वाली है। मैं नहीं जानता हूं कि मेरी बात उन तक पहुंचेगी या नहीं लेकिन देश के समक्ष जिस तरह का संकट मुझे दिखाई दे रहा है वही मुझे अपनी बात उनके सामने रखने के लिए मजबूर कर रहा है।’

आज कांग्रेस की अहम बैठक – राहुल को मिल सकती है कमान
शनिवार की बैठक में पार्टी के स्थायी अध्यक्ष के चुनाव को लेकर चर्चा हो सकती है। गांधी परिवार के करीबी राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बैठक में मौजूद होने की संभावना है। माना जा रहा है कि राहुल गांधी को एक बार फिर पार्टी की कमान देने का फैसला किया जा सकता है। हालांकि, वह फिलहाल इसके लिए राजी नहीं दिख रहे। बैठक में उन्हें इसके लिए मनाने की कोशिशें हो सकती हैं।

पिछले साल कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद राहुल ने कहा था कि वह चाहते हैं कि गांधी परिवार से बाहर का कोई नेता अध्यक्ष चुना जाए। तब मुकुल वासनिक, मीरा कुमार जैसे कुछ नेताओं के नाम की चर्चा भी रही थी। अब अगर राहुल अध्यक्ष पद के लिए तैयार नहीं होते हैं तो परिवार से बाहर के किसी नेता को पार्टी की कमान देने पर मंथन हो सकता है। ऐसे में गांधी परिवार के किसी करीबी और भरोसेमंद को यह जिम्मेदारी दी जा सकती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

नेताजी जयंती ‘पराक्रम दिवस’ के रूप में मनायी जाएगी, ​शिरकत करेंगे पीएम

सन्मार्ग संवाददाता नयी दिल्ली/कोलकाता : इस बार 23 जनवरी को नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जन्म जयंती के दिन को ‘पराक्रम दिवस’ के तौर पर आगे पढ़ें »

भाजपा की रैली पर हमले को लेकर मुकुल ने की राज्यपाल से शिकायत

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : राज्य की कानून-व्यवस्था की स्थिति पर सवाल उठाते हुए एक बार फिर भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकुल राय राज्यपाल जगदीप धनखड़ के आगे पढ़ें »

ऊपर