ब्रेकिंग : जगदीप धनखड़ होंगे एनडीए के उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार

नई दिल्ली : इस वक्त की बड़ी खबर आ रही है कि जगदीप धनखड़ एनडीए के उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार होंगे। बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने इसकी घोषणा की। मालूम हो कि बीजेपी संसदीय बोर्ड की बैठक में शनिवार शाम उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के नाम पर चर्चा हुई। बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जगदीप धनखड़ के नाम की घोषणा की। इस बैठक में पीएम नरेंद्र मोदी भी शामिल हुए। दोपहर में पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी। वहीं इससे पहले धनखड़ ने शुक्रवार को गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी। उपराष्ट्रपति चुनाव के लिए 6 अगस्त 2022 को वोट डाले जाएंगे और उसी दिन परिणाम भी आ जाएंगे। मौजूदा उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू का कार्यकाल 11 अगस्त को खत्म हो रहा है।

राजस्थान के जाट नेता हैं धनखड़
भाजपा के जाट नेता राजस्थान के रहने वाले हैं। उन्हें 20 जुलाई 2019 को पश्चिम बंगाल का राज्यपाल बनाया गया था। वे 1989 से 1991 तक राजस्थान के झूंझनू से लोकसभा सांसद रहे। 1989 से 1991 तक वीपी सिंह और चंद्रशेखर की सरकार में केंद्रीय मंत्री भी रहे।

जब धनखड़ बोले- मैं चुप रहने वाला गवर्नर नहीं
बंगाल का राज्यपाल रहते हुए जगदीप धनखड़ और ममता बनर्जी के बीच कई बार तल्खियां सामने आ चुकी है। बंगाल चुनाव के बाद राज्य में हुए राजनीतिक हिंसा के लिए सीधे तौर पर उन्होंने ममता सरकार को जिम्मेदार ठहरा दिया था। 21 जून 2021 को उत्तर बंगाल दौरे के दौरान उन्होंने कहा था कि लोग मारे जा रहे हैं। मैं चुप रहने वाला गवर्नर नहीं हूं।
गवर्नर बनते ही तृणमूल से संघर्ष शुरू हुआ
70 साल के जगदीप धनखड़ को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 30 जुलाई 2019 को बंगाल का 28वां राज्यपाल नियुक्त किया था। धनखड़ की नियुक्ति के बाद से ही उनके और राज्य की सत्ता पर काबिज तृणमूल के बीच संघर्ष चला। टकराव इतना बढ़ चुका है कि पिछले साल दिसंबर में तृणमूल के 5 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिलकर राज्यपाल धनखड़ को हटाने की सिफारिश की थी।
तृणमूल ने कहा था- संविधान की धारा 156 की उपधारा 1 के तहत हमने राष्ट्रपति से राज्यपाल को हटाने की अपील की है, क्योंकि उन्होंने संविधान को भंग किया है। सुप्रीम कोर्ट का आदेश भी नहीं माना, लेकिन उन्हें नहीं हटाया गया।
चार रिश्तेदारों को OSD बनाने पर था विवाद
तृणमूल ने जगदीप धनखड़ पर आरोप लगाया था कि राजभवन में उन्होंने अपने 4 रिश्तेदारों को OSD बना दिया है। पूरे राजभवन को भाजपा ऑफिस में तब्दील कर दिया है। जनता के पैसों से खाना-पीना चल रहा है। जैसे-जैसे रात होती जाती है, वैसे-वैसे उनके ट्वीट भी बढ़ते जाते हैं। वे राजभवन में कारोबारियों से मिलते हैं। उन्होंने अपने पद की गरिमा गंवा दी। ये पूरा राज्य जानता है कि, वे भाजपा के एजेंट के तौर पर बंगाल में काम कर रहे हैं।
नकवी को कैंडिडेट बनाने की अटकलें थीं
इससे पहले, छह जुलाई को केंद्रीय अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कैबिनेट से इस्तीफा दिया था। उनका राज्यसभा कार्यकाल गुरुवार 7 जुलाई को खत्म हो रहा था। इस्तीफे के बाद से नकवी को उपराष्ट्रपति कैंडिडेट बनाए जाने की चर्चा थी। नकवी को भाजपा ने पिछले दिनों हुए राज्यसभा के चुनाव में उम्मीदवार नहीं बनाया था, तब से ही कयास लगाए जा रहे थे कि पार्टी उन्हें किसी बड़ी भूमिका में लाना चाहती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

ब्रेकिंग: मवेशी तस्करी मामले में सीबीआई आसनसोल…

कोलकाता: मवेशी तस्करी मामले में सीबीआई आसनसोल सीबीआई कोर्ट में पहला सप्लीमेंट्री चार्जशीट पेश करेगी। सूत्रों के मुताबिक चार्जशीट में सहगल हुसैन का नाम भी आगे पढ़ें »

ऊपर