कृषि कानून के खिलाफ पंजाब विधानसभा में आप ने दिया धरना, सदन में ही गुजारी रात

– पंजाब विधानसभा में अमरिंदर सिंह सरकार पेश किया कृषि कानून के खिलाफ प्रस्ताव
– आम आदमी पार्टी मसौदे की कॉपी ना मिलने पर नाराज, कहा – ‘लोकतंत्र की हत्या’

चंडीगढ़: केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों के विरोध में पहले ही पंजाब और हरियाना में बहुत बवाल मचा रखा है। ऐसे में पंजाब विधानसभा के विशेष सत्र का पहला दिन हंगामा-युक्त होना लाजमी है। सदन में आज इन विवादित कानूनों को खारिज करने के लिए विधेयक पेश किया जाएगा। इसही बीच, आम आदमी पार्टी के विधायक इस बात से नाराज दिखे कि बिल का मसौदा उनके साथ साझा नहीं किया गया। उन्होंने इस मुद्दे को लेकर कैप्टन अमरिंदर सिंह सरकार को सोमवार को घेरा और विधानसभा में ही धरने पर बैठ गए। वे पूरी रात विधानसभा परिसर में ही डटे रहे।

आप किन बातों को लेकर है नाराज ?
दरअसल केंद्र के नए कृषि कानून के प्रभाव को कम करने के लिए पंजाब सरकार जहां तक संभव हो राज्य के कानूनों का इस्तेमाल करने पर विचार कर रही है। वहीं आप के विधायकों की मांग है कि सरकार कृषि कानून के खिलाफ मंगलवार को पेश होने वाले प्रस्तावित बिल की प्रतियां उन्हें दी जाएं।

आप के वरिष्ठ विधायक और सदन में नेता विपक्ष हरपाल सिंह चीमा ने कहा, ‘आम आदमी पार्टी कृषि कानून के खिलाफ पेश कानून का समर्थन करेगी, लेकिन सरकार की ओर से हमें विधेयक की प्रतियां उपलब्ध नहीं कराई गई हैं। हमें अन्य विधेयकों की प्रतियां भी नहीं दी गई है। ऐसे में हमारे विधायक अहम मुद्दों पर चर्चा और उस पर बहस कैसे करेंगे?’

आप का आरोप – अमरिंदर सरकार बात से मुकर गई
इससे पहले सोमवार को विपक्षी पार्टियों ने पंजाब विधानसभा के विशेष सत्र के पहले दिन केंद्र के कृषि कानूनों के विरोध में विधेयक टेबल पर नहीं रखने को लेकर राज्य सरकार की आलोचना की। उनके हंगामे के चलते सदन की कार्यवाही मंगलवार तक के लिए स्थगित कर दी गई। वहीं पंजाब के वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल ने कहा कि वे मुद्दे पर संविधान विशेषज्ञों से सलाह-मशविरा कर रहे हैं और सत्र के दौरान टेबल पर रखे जाने वाले विभिन्न विधेयकों की प्रतियां विपक्षी पार्टी के सदस्यों को शाम तक मुहैया करा दी जाएंगी। परंतु ऐसा कुछ नहीं हुआ और इस कारण आप के विधायक सदन में ही धरने पर बैठ गए।

विधानसभा में रात गुजारना नया नहीं
विधानसभा अध्यक्ष, उपाध्यक्ष और विधानसभा के अधिकारियों ने आप नेताओं को प्रदर्शन बंद करने के लिए मनाने की कोशिश की, लेकिन वे अपनी मांग पर अड़े रहे। बता दें कि चार साल पहले सत्तारूढ़ शिअद-भाजपा सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा की मांग को लेकर उस समय विपक्ष में रही कांग्रेस के विधायकों ने विधानसभा में रात बिताई थी। इस बीच, राज्य विधानसभा में शिअद ने कहा कि केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ विधेयक सोमवार को ही पेश किया जाना चाहिए था।

ट्रैक्टरों पर चढ़कर पहुंचे विधानसभा
पार्टी के प्रतिनिधिमंडल ने विधानसभा अध्यक्ष राणा के पी सिंह से शाम को मुलाकात की और विधेयकों की प्रतियां नहीं मिलने पर आपत्ति जताई। शिअद नेताओं ने इसे ‘लोकतंत्र की हत्या’ करार दिया और शिअद विधायक कृषि कानूनों के विरोध में ट्रैक्टरों पर चढ़कर विधानसभा पहुंचे। उन्होंने केंद्र सरकार के कानून की प्रतियों को फाड़ दिया। आप के विधायकों ने काली टोपियां पहन कर विधानसभा परिसर के बाहर प्रदर्शन किया। उन्होंने कृषि कानूनों की प्रतियों को फाड़कर जला दिया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अभी जो मुझे ऑफर आ रहे हैं, काफी अच्छे हैं : बॉबी देओल

मुंबई : बॉलीवुड अभिनेता बॉबी देओल की वेब सीरीज आश्रम चैप्टर टू-द डार्क साइड ने खूब वाहवाही बटोरी है। बताते हैं कि जिस तरह से आगे पढ़ें »

किसानों के खिलाफ ‘आपत्तिजनक’ ट्वीट पर कंगना रनौत को नोटिस

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंध समिति ने बिना शर्त माफी मांगने को कहा नयी दिल्ली: दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंध समिति (डीएसजीएमसी) ने अभिनेत्री कंगना रनौत को कानूनी आगे पढ़ें »

ऊपर