बीटिंग द रिट्रीट: पहली बार गूंजी ऐ मेरे वतन के लोगों की धुन

नई दिल्लीः बीटिंग रिट्रीट के साथ 73वें गणतंत्र दिवस का समापन हुआ। आजादी के 75 साल पूरे होने पर ये सेरेमनी ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के रूप में मनाई गई। दिल्ली के विजय चौक पर चल रहे बीटिंग रिट्रीट में सबसे खास ड्रोन शो रहा। 1000 ड्रोन के जरिए आसमान पर आजादी के अमृत महोत्सव की तस्वीर उकेर दी गई। इस समारोह में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल हुए।

बीटिंग रिट्रीट सेरेमनी में पहली बार लता मंगेशकर का गाया गीत ऐ मेरे वतन के लोगों भी बजाया गया। इसे 1963 में कवि प्रदीप ने लिखा था। यह तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू का पसंदीदा गाना भी था।

‘अबाइड विद मी’ धुन समारोह में शामिल नहीं
महात्मा गांधी के पसंदीदा भजन की धुन ‘अबाइड विद मी’ इस बार बीटिंग रिट्रीट में सुनाई नहीं दी। बीटिंग रिट्रीट के लिए 26 धुनों की लिस्ट बनाई गई थी, जिसमें ‘अबाइड विद मी’ शामिल नहीं है। इसे महात्मा गांधी की पुण्यतिथि से एक दिन पहले 29 जनवरी को होने वाले बीटिंग रिट्रीट समारोह के आखिर में बजाया जाता था।

1950 से लगातार इस धुन को बीटिंग रिट्रीट में बजाया जाता रहा है, लेकिन 2020 में पहली बार इसे समारोह से हटा दिया गया। इस पर काफी विवाद होने के बाद साल 2021 में इसे फिर से समारोह में शामिल कर लिया गया था लेकिन यह दूसरी बार है जब इसे बीटिंग रिट्रीट से हटाया गया है। भारतीय सेना की ओर से शनिवार को पूरे प्रोग्राम का ब्रोशर जारी किया गया था। इसमें इस धुन का जिक्र नहीं था।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

महानवमी तक रातभर चलेगी मेट्रो, लोगों को राहत

एक नजर में महाषष्ठी को 288 सर्विसेज महाअष्टमी व महानवमी को 248 सर्विसेज दशमी को 132 सर्विसेज एकादशी से त्रयोदशी तक 234 सर्विसेज सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : दुर्गापू​जा का उत्साह पूरे आगे पढ़ें »

सप्तमी पर महानगर में ट्रैफिक व्यवस्था हुई प्रभावित

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : महासप्तमी के अवसर पर रविवार को महानगर की सड़कों पर लोगों की भारी भीड़ उमड़ी। पूजा पंडाल घूमने के लिए लोगों की आगे पढ़ें »

ऊपर