बीएआरसी निराश, कहा – ‘रिपब्लिक टीवी ने निजी संदेश को गलत तरीके से पेश किया’

मुंबई : टेलीविजन दर्शकों की रेटिंग एजेंसी बीएआरसी इंडिया ने रिपब्लिक टीवी पर उसके निजी एवं गोपनीय संदेश गलत तरीके से पेश करने का आरोप लगाया है और कहा है कि टीआरपी रेटिंग की कथित हेरफेर की जांच को लेकर उसने कोई टिप्पणी नहीं की है। प्रसारण दर्शक अनुसंधान परिषद (बीएआरसी) ने एक बयान में कहा कि वह टेलीविजन रेटिंग पॉइंट्स (टीआरपी) में हेरफेर मामले में चल रही जांच को लेकर कानून प्रवर्तन एजेंसियों के साथ सहयोग कर रही है।

बीएआरसी रिपब्लिक नेटवर्क के बर्ताव से असंतुष्ट
उल्लेखनीय है कि रिपब्लिक टीवी ने दावा किया था कि बीएआरसी ने एक ईमेल में कहा है कि चैनल (रिपब्लिक टीवी) किसी भी कथित कदाचार में शामिल नहीं है। इसपर बीएआरसी ने कहा, ‘बीएआरसी इंडिया, रिपब्लिक नेटवर्क द्वारा निजी एवं गोपनीय संचार का खुलासा किये जाने और उसको गलत तरीके से पेश किये जाने से बहुत निराश है।’ उसने कहा कि ‘बीएआरसी इंडिया बार-बार इस बात को दोहराती है कि उसने वर्तमान में चल रही जांच पर कोई टिप्पणी नहीं की है। वह रिपब्लिक नेटवर्क के बर्ताव पर अपना असंतोष व्यक्त करती हैं’।

चार चैनलों की जांच जारी
बीएआरसी की शिकायत पर मुंबई पुलिस, टीआरपी रेटिंग में हेरफेर के आरोपों की जांच कर रही है। रिपब्लिक टीवी उन चार चैनलों में से एक है जिनकी जांच की जा रही है। बीएआरसी का यह बयान तब आया है जब रिपब्लिक टीवी ने एजेंसी के सीईओ सुनील लुल्ला और रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के सीईओ विकास खानचंदानी के बीच हुई एक ईमेल बातचीत का खुलासा किया। टीवी नेटवर्क की वेबसाइट के अनुसार, खानचंदानी ने 16 अक्टूबर को बीएआरसी को एक ईमेल लिखा था।

क्या है पूरा मामला
वेबसाइट के मुताबिक, बीएआरसी ने 17 अक्टूबर को खानचंदानी के ईमेल का जवाब दिया जिसमें उसने बीएआरसी आंतरिक तंत्र में विश्वास के लिए नेटवर्क को धन्यवाद दिया और कहा कि ‘अगर एआरजी आउटलायर मीडिया (रिपब्लिक नेटवर्क का स्वामित्व रखने वाली कंपनी) के खिलाफ कोई अनुशासनात्मक कार्यवाई शुरू की गई, तो बीएआरसी इंडिया आपकी प्रतिक्रिया के लिए आवश्यक दस्तावेजों के साथ आपको इसके बारे में सूचित करेगा।’ उसमें कहा गया, ‘इस प्रकार, इस ई-मेल से साबित होता है कि बीएआरसी ने रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के खिलाफ किसी भी तरह के अनाचार का आरोप नहीं लगाया है।’

बीएआरसी के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए रिपब्लिक टीवी के मालिक अर्नब गोस्वामी ने कहा, ‘बीएआरसी का ईमेल पुष्टि करता है कि पुलिस आयुक्त ने झूठ बोला था। (मुंबई पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह) को तुरंत पद छोड़ देना चाहिए। ‘ गौरतलब है कि पुलिस ने इस मामले में अब तक छह लोगों को गिरफ्तार किया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

8 बेड की यूनिट से 4 मल्टी-स्‍पेशियलिटी अस्पतालों का रूप ले चुका है आईएलएस

अमेरिका की सर्जिकल रिव्यू कमेटी द्वारा सर्जन ऑफ एक्सीलेंस से नवाजे गए डॉ. ओम टांटिया ने 1999 में कोलकाता में लैप्रोस्कोपिक यूनिट स्‍थापित करने का आगे पढ़ें »

20 से अधिक देशों में सेवाएं दे रही है इंडस नेट टेक्नोलॉजिज

इंडस नेट टेक्नोलॉजिज (Indus Net Technologies) के फाउंडर-सीईओ अभिषेक रूंगटा आंट्रेप्रेनर, डिजिटल स्ट्रैटजी कंसल्टेंट, साफ्टवेयर आर्किटेक्ट व एंजेल इंवेस्टर हैं। 1997 में जमीनी स्तर से आगे पढ़ें »

ऊपर