अनुच्छेद 370 संविधान में नासूर की तरह था, पीएम ने इसे हटाकर सपना सच किया – रक्षामंत्री

Rajnath Singh

पटना : ‌केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने रविवार को पार्टी द्वारा आयोजित ‘जन जागरण सभा’ को संबोधित करते हुए कहा कि अनुच्छेद 370 संविधान में नासूर यानी कैंसर की तरह था, जो आए दिन देश के दिल और स्वर्ग कश्मीर को लहूलुहान कर रहा था। लोग कहते हैं कि हम सपने देखते हैं, लेकिन वो सच नहीं होता। लेकिन हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसे पूरा कर दिखाया। उन्होंने ये साबित कर दिया कि हम खुले आंखों से सपने देखते हैं इसलिए हमारे सपने सच होते हैं। बता दें कि रक्षा मंत्री इन दिनो पटना दौरे पर है, जहां वे भारतीय जनता पार्टी द्वारा आयोजित कार्यक्रम को संबोधित किया। इस कार्यक्रम में राजनाथ सिंह के अलावा केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय, कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद, बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सांसद डॉ संजय जायसवाल, उप-मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव, कृषि मंत्री डॉ प्रेम कुमार, स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे सहित अन्य वरिष्ठ नेता मौजूद थे।

आतंकवाद का सबसे बड़ा कारण अनुच्छेद 370 और 35ए

रक्षा मंत्री अपने भाषण में यह भी कहा कि जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद को जन्म देने के पीछे सबसे बड़ा कारण अनुच्छेद 370 और 35 ए ‌‌था। इसी के कारण कश्मीर लहूलुहान हुआ है। इसके अलावा उन्होंने कहा कि देखते है कि पाकिस्तान में कितनी हिम्मत है, और यहां कितने आतंकी जन्म लेते है। वहीं केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय ने कहा है कि देश का अगर बंटवारा नहीं होता तो पाकिस्तान नहीं होता और पाक नहीं होता तो 370 नहीं होता। 370 देश के माथे पर लगा कलंक का टीका था जिसे मिटा दिया गया। उन्होंने कहा कि जिन्होंने इसका विरोध किया है उसे कभी माफ नहीं किया जाएगा।

1965 और 1971 की गलतियों को न दोहराए

रक्षा मंत्री ने पड़ोसी देश पाकिस्तान को ”1965 और 1971 की गलतियों को न दोहराने” की चेतावनी देते हुए कहा कि जिस प्रकार वहां मानवाधिकारों का उल्लंघन हो रहा है और वहां आतंकवाद पनप रहा है, उससे पाक को विघटित होने से कोई नहीं रोक सकता है। उन्होंने पड़ोसी देश को जम्मू-कश्मीर के घटनाक्रम के मद्देनजर सीमा पार से आतंकवाद को बढ़ावा देने के खिलाफ आगाह किया और कहा कि पाकिस्तान के साथ बातचीत तभी शुरू होगी जब वह आतंकवाद को बढ़ावा देना बंद कर देगा। साथ ही उन्होंने कहा कि उसे यह भी ध्यान रखना चाहिए कि जम्मू कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और बातचीत केवल पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर पर हो सकती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

‘अम्फान’ से सबक लेकर आधारभूत संरचना को बेहतर करें, आपदा से निपटने पर ध्यान दें : एनडीआरएफ प्रमुख

कोलकाता : एनडीआरएफ के प्रमुख एस एन प्रधान ने कहा है कि पश्चिम बंगाल और ओडिशा के कुछ हिस्सों में तबाही मचाने वाले चक्रवात ‘अम्फान’ आगे पढ़ें »

रियल एस्टेट सेक्टर को बड़े पैकेज की जरूरत, पीएम को पत्र लिखकर रखी मांगें

नई दिल्ली : कोरोना महामारी से चरमराई अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए भारत सरकार और आरबीआई ने औद्योगिक सेक्टर्स के लिए कई अहम् आगे पढ़ें »

ऊपर