‘जमीन पर नहीं अब हवा में उगाएं आलू’, किसानो का मुनाफा बढ़ेगा कई गुना ज्यादा

नई दिल्ली: आलू की खेती देश में बड़े पैमाने पर की जाती है। अधिकतर जगहों पर आलू की खेती पारंपरिक तरीके से होती है। किसानों की फसल कभी बारिश तो कभी सूखे के चलते बर्बाद होती है। ऐसे में किसान अब एरोपोनिक तकनीक के माध्यम से हवा में आलू की खेती कर सकेंगे। इस तकनीक का इजाद हरियाणा के करनाल जिले में स्थित आलू प्रौद्योगिकी केंद्र द्वारा किया गया है। सरकार द्वारा इस तकनीक से आलू की खेती करने की मंजूरी दे दी गई है। मध्य प्रदेश बागवानी विभाग को इस तकनीक का लाइसेंस देने का अधिकार दिया गया है।
वैज्ञानिक कहते हैं कि किसानों को इस तकनीक का काफी फायदा होगा। कम लागत में ही किसान को ज्यादा पैदावार हासिल किया जा सकता है। इसका मतलब किसानों का इससे मुनाफा भी बढ़ेगा। इस तकनीक में लटकती हुई जड़ों के द्वारा उन्हें पोषण दिए जाते हैं। जिसके बाद उसमें मिट्टी और ज़मीन की ज़रूरत नहीं होती। इसमें में पोषक तत्वों को धुंध के रूप में जड़ों में छिड़का जाता है। पौधे का ऊपरी भाग खुली हवा और प्रकाश में रहता है।

एरोपोनिक तकनीक का उपयोग करने पर फसल में मिट्टी जनित रोगों के लगने की संभावना भी कम रहती है, जिससे किसानों का नुकसान काफी हद तक कम हो सकता है. किसानों को इस तकनीक के प्रति जागरूक किया जाएगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

दिसम्बर में मनाऊंगा विजया सम्मिलनी, बांटूंगा लड्डू : शुभेंदु

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : शनिवार को डायमण्ड हार्बर के लाइटहाउस ग्राउंड में भाजपा की सभा को संबोधित करते हुए विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी ने राज्य आगे पढ़ें »

डायमण्ड हार्बर में शुभेंदु की सभा से पहले हंगामा, घरों व वाहनों में आगजनी

कांथी में अवरोध करने में मुझे 3 सेकेंड लगते : शुभेंदु सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : शनिवार को डायमण्ड हार्बर में विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी की सभा आगे पढ़ें »

ऊपर