…बिना सेक्स के ही प्रेग्नेंट हुई महिला

डॉक्टरों के लिए बनी पहेली
नई दिल्ली : यू.के के हैम्पशायर में रहने वाली एक महिला ने सोशल मीडिया पर लोगों से अपनी हैरान कर देने वाली प्रेग्नेंसी की कहानी शेयर की है। 28 साल की निकोल ने बताया है कि कैसे 8 साल पहले वो बिना सेक्स के ही प्रेग्नेंट हो गई थी। डेलीमेल की रिपोर्ट के मुताबिक, निकोल जब 18 साल की थी तब वो अपने ब्वॉयफ्रेंड को डेट कर रही थी। एक दिन ऑफिस में काम करते हुए अचानक निकोल के सीने में जलन होने लगी और चक्कर आने लगे। निकोल को उसकी दोस्त ने प्रेग्नेंसी टेस्ट करने की सलाह दी। निकोल का प्रेग्नेंसी टेस्ट पॉजिटिव आया और ये जानकर उसके पैरों तले जमीन खिसक गई। दरअसल, निकोल वर्जिन थीं और उसने कभी भी अपने ब्वॉयफ्रेंड के साथ शारीरिक संबंध नहीं बनाए थे। निकोल ने बताया, ‘मैं टैम्पोन तक का इस्तेमाल नहीं कर पाती थी। बहुत कोशिश करने के बावजूद हम कभी भी सेक्स नहीं कर पाए क्योंकि मुझे इस दौरान बहुत तेज दर्द होता था। मुझे समझ नहीं आता था कि आखिर इसकी क्या वजह है। मैं उस समय डॉक्टर से भी मिली थी और चेकअप के बाद उन्होंने भी कहा कि सबकुछ ठीक है
आखिरकार प्रेग्नेंसी चेकअप्स के दौरान निकोल को पता चला कि उन्हें वेजिनीस्मस नाम की बीमारी है। इस मेडिकल कंडीशन में वजाइना की मांसपेशियां इतनी सिकुड़नें लगती हैं कि शारीरिक संबंध बनाना मुश्किल हो जाता है। ऐसे में अपनी प्रेग्नेंसी को लेकर वो और हैरान हो गई थी। निकोल ने बताया कि दिक्कत महसूस होने पर उस समय वो और उसके ब्वॉयफ्रेंड इंटीमेट होने के दूसरे तरीके आजमाते थे। डॉक्टर ने बताया कि सेक्स ना होने के बावजूद भी अगर किसी तरह स्पर्म या फ्लूड वजाइना में चला जाता है तो भी प्रेग्नेंसी हो सकती है। हालांकि ये बहुत ही दुर्लभ मामलों में होता है और निकोल का मामला उनमें से ही एक था।
निकोल को इस बात की भी चिंता थी कि प्रेग्नेंसी की खबर सुनकर उसका ब्वॉयफ्रेंड उस पर शक करेगा। हालांकि ऐसा नहीं हुआ और उसने पूरी प्रेग्नेंसी में निकोल का साथ दिया। निकोल ने कहा कि पूरी प्रेग्नेंसी के दौरान तमाम डॉक्टर्स को उनकी बात का यकीन नहीं होता था। निकोल ने कहा, ‘मेरा ब्वॉयफ्रेंड हर अप्वाइंटमेंट पर डॉक्टर से मिलने मेरे साथ जाता था ताकि वो भी डॉक्टर को बता सके कि हमने वाकई में सेक्स नहीं किया है। रूटीन चेकअप के दौरान प्रेग्नेंसी के चौथे महीने में जब डॉक्टर ने मुझे वेजिनीस्मस होने के बारे में बताया तो मैंने इसे गूगल पर ढूंढा। आखिरकार मुझे एहसास हुआ कि इसमें कुछ भी गलत नहीं है और ये बस मेरी एक मेडिकल कंडीशन है। बीमारी का पता चलने के बाद निकोल एक वेजिनीस्मस थेरेपिस्ट से मिली और उसकी मदद से अपनी मेडिकल कंडीशन से बाहर आ सकी। निकोल ने बताया कि जैसा उसे डर था वैसा नहीं हुआ और डिलीवरी के समय उसे कोई दिक्कत नहीं हुई। हालांकि, निकोल और उसका ब्वॉयफ्रेंड अब साथ नहीं हैं लेकिन निकोल अब अपनी बीमारी से काफी हद तक उबर चुकी हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

‘सॉरी… मुझे पता नहीं था कि ये कोरोना वैक्सीन है’, ये बात पेपर पर लिखकर चोर ने वैक्सीन लौटाई

हरियाणा : हरियाणा के जींद में सिविल अस्पताल से चोरी का हैरान करने वाला मामला सामने आया है, जहां बीती रात एक चोर ने करीब आगे पढ़ें »

साइबर फ्रॉड से बचें : अस्पताल में बेड और ऑक्सिजन दिलवाने के नाम पर ऐसे हो रही ठगी

नई दिल्ली : देश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों से लोग घबराए हुए हैं। ऐसे समय में भी साइबर अपराधी लोगों को इलाज के आगे पढ़ें »

ऊपर