94 फीसदी आईटी ग्रैजुएट भारतीय नौकरी लायक नहीं

नई दिल्लीः टेक महिंद्रा के सीईओ चंद्र प्रकाश गुरनानी का कहना है कि 94 प्रतिशत आईटी ग्रेजुएट भारत की बड़ी कंपनियों में काम करने के योग्य नहीं हैं। गुरनानी टेक महिंद्रा के अगले चरण की नींव रखने के साथ ही अगली पीढ़ी के लिए एक रोडमैप तैयार कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मैनपावर स्किलिंग और आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस, ब्लॉकचेन, साइबर सिक्यॉरिटी, मशीन लर्निंग जैसी नई तकनीक में प्रवेश करना भारतीय आईटी कंपनियों के लिए बहुत बड़ी चुनौती है।
भारतीय आईटी कंपनी को स्किल की जरूरत
गुरनानी ने कहा कि उन्हें लगता है इन सब चीजों को देखते हुए जब नौकरी की बात आती है, तो बड़ी आईटी कंपनियां 94 फीसदी आईटी ग्रेजुएट भारतीयों को इसके लिए योग्य नहीं मानती हैं। उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि दिल्ली जैसे शहर में छात्र आज 60 प्रतिशत अंक लाने पर बीए-अंग्रेजी की पढ़ाई नहीं कर सकते हैं लेकिन वह निश्चित तौर पर इंजीनियरिंग की तरफ जा सकते हैं। मेरा कहना सिर्फ इतना है कि क्या हम बेरोजगार लोग पैदा नहीं कर रहे हैं? भारतीय आईटी कंपनी को स्किल की जरूरत है।
टेक और लर्निंग सेंटर
गुरनानी ने कहा, उदाहरण के तौर पर नासकॉम को साइबर सिक्योरिटी के लिए 2022 तक 6 मिलियन लोगों की जरुरत है लेकिन हमारे पास स्किल्स की कमी है। मेरा कहना यह है अगर मैं रोबोटिक्स व्यक्ति की तलाश में हूं और इसकी बजाय मुझे मेनफ्रेम का व्यक्ति मिलता है, तो यह एक स्किल गैप को बनाता है। यह एक बड़ी चुनौती के रूप में हमारे सामने आता है। यदि आप टेक महिंद्रा आएंगे तो देखेंगे कि मैंने वहां पांच एकड़ का टेक और लर्निंग सेंटर बनाया है। दूसरी टॉप की कंपनियों ने भी कर्मचारियों की स्किल के लिए इस तरह की सुविधाएं बनाई हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बांग्लादेशी घुसपैठियों द्वारा ‘छीने गए’ अल्पसंख्यकों के अधिकारों की रक्षा करेगा एनआरसी : भाजपा

रांची : झारखंड भाजपा ने रविवार को कहा कि राष्ट्रीय नागरिकता पंजी (एनआरसी) देश के अल्पसंख्यकों के उन अधिकारों की रक्षा करेगी जो बांग्लादेशी घुसपैठियों आगे पढ़ें »

अपराध

मानव शृंखला के दौरान एक शिक्षक व एक महिला की मौत, 13 घायल

दरभंगा : बिहार के दरभंगा जिले में रविवार को ‘जल-जीवन-हरियाली अभियान’ एवं नशामुक्ति के पक्ष में तथा बाल विवाह और दहेज प्रथा के खिलाफ केवटी आगे पढ़ें »

ऊपर