26/11 हमला आरोपी तहव्वुर राणा की जमानत याचिका खारिज

वाशिंगटन : 26/11 मुंबई हमले में भूमिका को लेकर अमेरिका की एक अदालत ने पाकिस्तानी मूल के कनाडाई कारोबारी और 2008 में मुंबई हमले के मुख्य आरोपी तहव्वुर राणा की जमानत याचिका खारिज कर दी है। दूसरी ओर, भारत राणा को भगोड़ा करार दे चुका है। अदालत ने कहा कि उसके देश छोड़कर भागने का खतरा खत्म नहीं हुआ है।

2008 के मुंबई आंतकवादी हमले के साजिशकर्ता डेविड कोलमैन हेडली के बचपन के दोस्त 59 वर्षीय राणा के प्रत्यर्पण के भारत के अनुरोध के बाद फिर से 10 जून को लॉस एंजिलिस में गिरफ्तार किया गया था। हेडली सरकारी गवाह बन गया तथा हमले में अपनी भूमिका की वजह से अमेरिका में 35 साल की जेल की सजा काट रहा है।गौरतलब है कि मुंबई हमले में 166 लोगों की मौत हुई थी जिनमें से छह अमेरिकी नागरिक थे।

राणा के भागने का खतरा कायम

लॉस एंजिलिस की जिला अदालत की मजिस्ट्रेट जज जैकलिन चूलिजियान ने 10 दिसंबर को अपने आदेश में कहा कि राणा ने ‘अच्छा जमानत पैकेज’ पेश किया और देश से भागने के खतरे को उल्लेखनीय रूप से कम करने वाली शर्तों को गिनवाया लेकिन अदालत का यह मानना है कि उसने भागने के खतरे की शंका को दूर नहीं किया है। अदालत ने राणा को जेल में रखने के अमेरिका सरकार के आग्रह को मंजूरी दे दी। इसी बीच राणा के प्रत्यर्पण के लिए भारत की ओर से जमा किए गए दस्तावेजों को सार्वजनिक नहीं करने के भारतीय आग्रह का अदालत में अमेरिका सरकार ने समर्थन किया है। भारत के दस्तावेज में प्रत्यक्ष तौर पर मुंबई में आतंकवादी हमले में राणा की भूमिका का जिक्र है।

राणा ने हृदय रोग का दिया हवाला

अमेरिका की अटॉर्नी निकोला टी हना ने शुक्रवार को अदालत में बताया कि भारत ने अमेरिका से आग्रह किया था कि वे इस दस्तावेज की लोगों तक पहुंच को सीमित करने के लिए कदम उठाएं। राणा ने अपनी जमानत याचिका में कहा कि उसका स्वास्थ्य ठीक नहीं है और जेल में रहने के दौरान ही दो बार दिल के दौरे पड़ चुके हैं। राणा ने कहा था कि वह समुदाय के लिए खतरा नहीं है, जिसका अमेरिका सरकार ने विरोध किया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

ब्रेकिंग : पार्टी के साथ ही हूं और साथ ही रहूंगी – शताब्‍दी रॉय

कोलकाता : बीरभूम की तृणमूल सांसद और अभिनेत्री शताब्‍दी रॉय ने दिया बड़ा बयान कहा कि पार्टी के साथ ही हूं और साथ ही रहूंगी। आगे पढ़ें »

नौकरी नहीं है इसलिए किडनी बेचने को तैयार हुआ युवक

स्वास्थ्य मंत्री से कहा - इसका उचित मूल्य दिलाएं बेरोजगार युवक का पोस्ट बना राजनीतिक मुद्दा बारासात : बारासात के एक युवक रफिकुल इस्लाम के फेसबुक पर आगे पढ़ें »

ऊपर