कोरोना से राममंदिर के शिलान्यास तक, इन टॉप-20 बड़ी घटनाओं के लिए आपके जेहन में रहेगा साल 2020

Year Ender 2020 : देश और दुनिया में फैली कोविड-19 महामारी के कारण साल 2020 सबसे कठिन वर्षो में से एक रहा। नए साल में सब बेहतर होगा इस उम्मीद से दुनियाभर में 2020 के बीतने का बेसब्री से इंतजार हो रहा है। इस साल ने आम लोगों के अलावा सरकारों के समक्ष भी कई चुनौतियों उत्पन्न की। हालांकि, कोरोना के अलावा भी 2020 में देशभर में ऐसी कई घटनाएं घटी जिसे आसानी से भुलाया नहीं जा सकता है। इसमें से कई विवादों में भी घिरे रहें…
आईये ऐसे ही आपके जेहन में ताजा रहने वाली देश से जुड़ी टॉप-20 घटनाओं से एक बार फिर आपको रू-ब-रू कराते हैं…
1. सीएए विरोध प्रदर्शन : साल 2020 की शुरुआत ही सीएए विरोध प्रदर्शन के साथ हुई, जिसने देशभर में बड़े दंगे का रूप ले लिया और भारत की राजनीति को एक अलग दिशा दी। 12 दिसंबर 2019 को भारत सरकार द्वारा विवादास्पद एनआरसी के साथ जुड़े नागरिकता संशोधन अधिनियम को पास करने के बाद ही इसका विरोध शुरू हो गया था। लेकिन 2020 जनवरी में दिल्ली के शाहीन बाग में इसे लेकर बड़ा मोर्चा खोला गया और महीनों तक यह आंदोलन सूर्खियां बंटोरता रहा।
2. उत्तर-पूर्वी दिल्ली दंगे : सीएए के विरोध में दिल्ली के शाहीन बाग की आग ने फरवरी में हिंसक रूप ले लिया। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा भारत की पहली राजकीय यात्रा के दौरान उत्तर-पूर्वी दिल्ली में सीएए के समर्थकों व विरोधियों के बीच दंगा चल रहा था। दिल्ली में हुए इस हिंसक झड़प में कम से कम 53 लोगों की मौत हुई और सैकड़ों अन्य घायल हुए। इस दंगे ने ’नमस्ते ट्रम्प’ कार्यक्रम पर भी छाप छोड़ी।
3. कोरोना वायरस : कोरोना वायरस की शुरुआत 2019 में चीन से हुई। माना जाता है कि चून के वुहान शहर कोरोना की शुरुआत हुई। बाद में फरवरी में, डबल्यूएचओ ने इसे वैश्विक स्वास्थ्य आपातकाल घोषित किया। चीन से फैले इस वायरस ने पूरी दुनिया पर ब्रेक लगा दिया। भारत सहित कई देश महीनों तक बंद रहे। इस दौरान मोदी सरकार की कड़ी परीक्षा हुई।
4. लॉकडाउन : कोरोना महामारी की वजह से देश में पहली बार 24 मार्च 2020 को प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्र के नाम संबोधन में कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए 21 दिनों के लिए देशव्यापी लॉकडाउन की घोषणा की। इसके बाद लॉकडाउन को कई फेज में 31 मई तक बढ़ाया जाता रहा। इसके बाद 1 जून से फेज मैनर में प्रतिबंधों के साथ देश को अनलॉक करने की शुरुआत की गई।
5. प्रवासी संकट : कोरोना वायरस के प्रकोप के बीच लॉकडाउन के दौरान भारत में प्रवासी संकट सबसे बड़ा मुद्दा रहा। लॉकडाउन की वजह से सभी कार्यालयों, परिवहन और सार्वजनिक स्थानों को बंद कर दिया गया, जिससे बेरोजगारी में भारी वृद्धि हुई। काम करने या रहने के लिए कोई जगह नहीं होने और यात्रा करने का कोई साधन न होने के चलते प्रवासी मजदूर पैदल ही अपने-अपने घरों के लिए निकल पड़े। इस दौरान जो तस्वीरें सामने आई उसने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया।
6. 2020 रहा डिजिटल प्‍लेटफार्म पर उफान का साक्षी : वर्ष 2020 के कोरोना काल में लोग एक नई कार्य संस्कृति ‘वर्क फ्रॉम होम’ से रूबरू हो रहे हैं। पढ़ाई-लिखाई और कमाई सभी या तो घर से हो रहे थे या घर पर आ रहे थे। यह साल डिजिटल शॉपिंग के उफान का साक्षी बना तो वहीं डिजिटल मनोरंजन के रूप में ओटीटी के उभार का भी।
7. दिल्ली, बिहार और मध्यप्रदेश में सत्ता संग्राम : फरवरी 2020 में हुए दिल्ली विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी का एक बार फिर डंका बजा। वहीं, बिहार में कोरोना के दौर में चुनाव संपन्न हुआ। एनडीए की सरकार बनी और एक बार फिर नीतीश कुमार मुख्यमंत्री बने। बात मध्यप्रदेश के चुनाव की करें तो यहां ज्योतिरादित्य सि‌ंधिया ने हाथ का साथ छोड़कर कमलनाथ से सीएम की कुर्सी छीन ली और प्रदेश में भाजपा की सरकार ने सत्ता संभाल लिया।
8. आर्थिक मंदी : साल 2020 में मोदी सरकार को कोरोना, प्रवासी संकट के साथ ही आर्थिक मंदी का भी सामना करना पड़ा। कोरोना वायरस संकट के बीच 27 नवंबर को दूसरी बार जीडीपी ग्रोथ के आंकड़े आए जिसके मुताबिक वित्त वर्ष 2020-21 की दूसरी यानी सितंबर तिमाही में जीडीपी ग्रोथ निगेटिव में 7.5 फीसदी रही है। वित्त वर्ष की पहली यानी जून की तिमाही में भारतीय अर्थव्यवस्था में करीब 24 फीसदी की भारी गिरावट आ चुकी है।
9. भारत-चीन विवाद : भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास आठ महीने से तनाव की स्थिति बरकरार है। 15 जून को, गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प में 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे और अज्ञात चीनी सैनिक मारे गए। तब से पूर्वी लद्दाख के चुशुल में भारत और चीन के बीच सीमा विवाद को सुलझाने और गतिरोध समाप्त करने के लिए सैन्य वार्ता जारी है।
10. भव्य राम मंदिर भूमि पूजन : सुप्रीम कोर्ट द्वारा राम मंदिर के निर्माण को लेकर फैसला दिए जाने के महीनों बाद, इस साल अगस्त में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 29 साल बाद पवित्र शहर अयोध्या में ‘भूमि पूजन’ में भाग लेने के लिए गए। दिलचस्प बात यह रही कि राम मंदिर भूमि पूजन का भव्य समारोह 5 अगस्त को हुआ। इसी दिन जम्मू एवं कश्मीर से धारा 370 को निरस्त करने की पहली वर्षगांठ भी थी। जिसको लेकर काफी विवाद हुआ।
11. हाथरस गैंगरेप मामला : इस साल के सितंबर महीने में उत्तरपर्देश के हाथरस में ऊंची जाति के चार पुरुषों पर कथित तौर पर दलित युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म करने का आरोप लगाया गया था। पीड़िता की मौत के बाद पुलिस पर पीड़िता के परिवार की मंजूरी के बिना देर रात में चोरी-छीप्पे दाह-संस्कार करने का भी आरोप लगाया गया। मामले ने देशभर में गुस्से का रूप ले लिया था। सीबीआई ने मामले की जांच शुरू की और 18 दिसंबर को हाथरस की एक स्थानीय अदालत में चार आरोपियों के खिलाफ आरोपपत्र (चार्जशीट) दाखिल किया।
12. निर्भया के दोषियों को फांसी :देश को झकझोर देने वाले साल 2012 के निर्भया गैंगरेप और मर्डर के दोषियों को आखिरकार फांसी पर लटका दिया गया। दिल्ली के तिहाड़ जेल में 20 मार्च 2020 को निर्भया के चार गुनाहगारों मुकेश सिंह, पवन गुप्ता, विनय शर्मा और अक्षय सिंह को फांसी पर लटकाया गया।
13. सुशांत सिंह राजपूत की मौत और नेपोटिज्म : बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की संदिग्ध मौत का मामला साल 2020 में सबसे ज्यादा विवादों में रहा। सुशांत की मौत ने बॉलीवुड से लेकर महाराष्ट्र सरकार तक नींदे उड़ा दी। बॉलीवुड के कई लोगों खिलाफ नेपोटिज्म को बढ़ावा देने का आरोप लगा। वहीं यहां फैले ड्रग्स के मकड़ेजाल का भी खुलासा हुआ। इस दौरान कंगना रणौत और शिवसेना के नेताओं के बीच विवाद चर्चे में रहे।
14. राजनीति और फिल्म इंडस्ट्री के कई हस्तियों का छूटा साथ :साल 2020 में भारत के राजनीति और फिल्म इंडस्ट्री ने दिग्गजों को खोया। इनमें पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, लोजपा के संस्थापक रामविलास पासवान, दिग्गज नेता अमर सिंह, अभिनेता ऋषि कपूर, अभिनेता इरफान खान, म्यूजीशियन एसपी बालासुब्रमण्यम आदि दिग्गजों के नाम शामिल हैं।
15. केरल में गर्भवती हथिनी की हत्या : केरल के पलक्कड में एक गर्भवती हथिनी की मौत से पूरा देश कराह उठा। हर किसी ने इस हैवानियत की कड़ी निंदा की। पूरे देश में इसके खिलाफ गम और गुस्सा दिखा। केंद्र और राज्य दोनों ने इसे क्रूर हत्या करार देते हुए निंदा की।
16. विकास दुबे एनकाउंटर : उत्तर प्रदेश के कानपुर में जुलाई 2020 का महीना बिकरू कांग का गवाह रहा। जहां, इनामी गैंगस्टर विकास दुबे ने 8 पुलिसकर्मियों पर ताबड़तोड़ गोलियां दाग दी थी। कई दिनों तक छिपे होने के बाद पुलिस ने एमपी के उज्जैन से विकास को गिरफ्तार किया। यूपी पुलिस जब विकास दुबे को लेकर वापस आ रही थी तब गाड़ी का एक्सीडेंट हुआ और विकास दुबे भागने की फिराक में एनकाउंटर में मारा गया।
17. पालघर में साधुओं की हत्या : महाराष्ट्र के पालघर में दो साधुओं और उनके ड्राइवर की पीट-पीटकर हत्या से देशभर में खासा आक्रोश फैला। जिले के गढ़चिंचले गांव में अप्रैल, 2020 में यह घटना घटी। स्थानीय पुलिस और राज्य CID इस मामले में अब तक 134 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है। इस घटना की निंदा भी पूरे देश में हुई।
18. 28 साल बाद बाबरी विध्वंस में फैसला : 6 दिसंबर 1992 को अयोध्या में विवादित ढांचा ढहाए जाने के मामले में 28 साल बाद 30 सितंबर को फैसला आया। सीबीआई की विशेष अदालत ने सभी आरोपियों को बरी कर दिया और कहा कि मस्जिद विध्वंस सुनियोजित नहीं थी। मामले में भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती, यूपी के पूर्व सीएम कल्याण सिंह समेत 32 आरोपी थे।
19. ‘राफेल’ से लैस हुई सेना : जुलाई महीने में राफेल की पहली खेप भारत पहुंच गई। चीन के साथ सीमा विवाद के बीच राफेल लड़ाकू विमानों के आने से भारतीय सेना की ताकत में इजाफा माना जा रहा है। विमानों के अंबाला एयरबेस पर पहुंचने के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था कि राफेल लड़ाकू विमानों का भारत में आना हमारे सैन्य इतिहास में नए युग की शुरुआत है।
20. किसान आंदोलन : साल 2020 अपनी समाप्ति की ओर है लेकिन किसान आन्दोलन अभी भी जारी है। किसान केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर महीने भर से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। हजारों किसान कपकंपाती ठंड में दिल्ली के इलाकों में केंद्र के कृषि कानूनों का लगातार विरोध कर रहे हैं, केंद्र से “एमएसपी को वैध” करने की मांग कर रहे हैं। आंदोलनकारी किसान यूनियन मुख्य रूप से पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश से हैं, लेकिन हजारों किसान अन्य राज्यों से भी ‘दिल्ली चलो’ के विरोध में शामिल हो रहे हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

न्यूयॉर्क के एनिमल एडवेंचर पार्क में दुर्लभ सफेद कंगारू ने लिया जन्म

न्यूयॉर्क : न्यूयॉर्क में एनिमल एडवेंचर पार्क के आगंतुक जल्द ही सफेद फर वाले एक दुर्लभ कंगारू को देख पाएंगे। चिड़ियाघर ने शुक्रवार को सोशल आगे पढ़ें »

मई में होगा कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव

नई दिल्ली : कांग्रेस में अध्यक्ष पद का चुनाव इसी साल मई में कराया जाएगा। शुक्रवार को कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में इसका ऐलान आगे पढ़ें »

ऊपर