2013 से अधिक मौतें, समीकरणों में सिमटी राजनीति

राज्य चुनाव आयोग ने कुछ भी कहने से किया इनकार
कोलकाता: राज्य में सोमवार को हुआ पंचायत चुनाव संभवतः एक नया इतिहास रचने जा रहा है। आंकड़े कुछ ऐसी ही तस्वीर पेश कर रहे हैं। राज्य चुनाव आयोग भले ही इस पर कुछ कहने से बचता नजर आया। हालांकि जिलों से मिली रिपोर्ट की मानें तो इस बार हिंसा सबसे अधिक रही। इसकी एक बड़ी वजह एक ही चरण में मतदान का करवाया जाना भी हो सकता है। जहां इस बार एक दिन में जिला परिषद, पंयायत समिति व ग्राम पंचायत में मतदान हुआ। वहीं 2013 में 5 चरणों में मतदान प्रक्रिया हुई थी। आयोग के सूत्रों का कहना है कि कुल 18 लोगों की मौत चुनावों के दौरान हुई थी। वहीं इस बार के पंचायत चुनाव में 18 लोगों के मारे जाने की खबर मतदान के दिन ही है। वहीं घायलों की संख्या 100 से अधिक है। आयोग सूत्रों की मानें तो फिलहाल गृह विभाग से इस सिलसिले में रिपोर्ट नहीं मिली है। ऐसे में संभावना जताई जा रही है कि मृतकों की संख्या में कुछ वृद्धि भी हो सकती है। माकपा का दावा है कि राज्य में पंचायत चुनाव की घोषणा के साथ ही 38 लोगों की मौत हुई है। वहीं केवल मतदान के दिन ही 18 लोग मरे हैं। ऐसे में यह आंकड़े राज्य की राजनीति में नए समीकरण बनाते नजर आ रहे हैं। हाईकोर्ट व सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की धज्जियां उड़ाते हुए प्रायः हर जिले में बमबाजी, आगजनी, गोलीबारी व हिंसा की खबरें आईं। सुरक्षा सुनिश्चित करने की बजाय पुलिस प्रशासन बेबस सा नजर आया।हालांकी डीजी सुरजीत कर पुरकायस्थ व आयोग सूत्रों ने मतदान के दिन केवल 6 लोगों के मरने की खबर की पुष्टि की है।
वर्ष- चुनावों के दिन मृतक- पंचायत चुनाव की प्रक्रिया में कुल मृतक- मतदान%
2013- 17- 21- 38 (औसतन)
2018- 19- 36- 55 (कई जगहों पर मतदान जारी)

शेयर करें

मुख्य समाचार

bobade

अत्यधिक कर वसूलना सामाजिक अन्याय : जस्टिस बोबडे

नई दिल्ली : शीर्ष न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश शरद अरविंद बोबडे ने देश की जनता पर कर का बोझ कम करने तथा राष्ट्र के चहुंमुखी आगे पढ़ें »

missile

6 दिन में दूसरी बार भारत ने किया स्वदेश निर्मित K-4 बैलिस्टिक मिसाइल का सफल परीक्षण

नई दिल्ली : भारत ने शुक्रवार सुबह विशाखापट्टनम के तट से 3500 किलोमीटर की मारक क्षमता वाली स्वदेश निर्मित K-4 बैलिस्टिक मिसाइल का सफल परीक्षण आगे पढ़ें »

ऊपर