19 अप्रैल से स्‍थगित रहेंगे सभी एलओसी कारोबार, आतंकी कर रहे थे इस रूट का इस्तेमाल : गृहमंत्रालय

नई दिल्ली : गृह मंत्रालय ने गुरुवार को एक बड़ा फैसला लेते हुए एक आदेश जारी किया है। भारत सरकार ने पाकिस्तान के साथ नियंत्रण रेखा के उस पार से होने वाले सभी प्रकार के कारोबारों को 19 अप्रैल से स्थगित करने का ऐलान किया है। जारी किए गए आदेश के मुताबिक सरकार को ऐसी रिपोर्टें मिल रही थीं कि पाकिस्तान में बैठे कुछ अराजक तत्व अवैध हथियारों, मादक पदार्थों और फेक करंसी आदि के काले कारोबार के लिए नियंत्रण रेखा (एलओसी) ट्रेड रूट का इस्तेमाल कर रहे थे।

प्रतिबंधित आतंकी संगठनों से ताल्लुक रखने वाले लोग करते है व्यापार: एनआई जांच

गृह मंत्रालय ने एक आधिकारिक बयान में कहा, ‘गृह मंत्रालय (एमएचए) ने 19 अप्रैल से जम्मू-कश्मीर में एलओसी ट्रेड को स्‍थगित रखने का आदेश जारी किया है। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) द्वारा की जा रही कुछ मामलों की जांच में इस बात का पता चला कि एलओसी ट्रेड करने वाले लोगों में बड़ी तादाद उनकी है जो आतंकवाद/अलगाववाद को भड़काने में शामिल प्रतिबंधित आतंकी संगठनों से ताल्लुक रखते हैं।

कड़ी निगरानी रखने के लिए तंत्र गठित किया जाएगा

गौरतलब है कि जम्मू और कश्मीर में नियंत्रण रेखा के उस पार से स्थानीय लोगों के बीच साझा इस्तेमाल की चीजों के आदान-प्रदान के लिए एलओसी ट्रेड किया जाता है। यह कारोबार दो केंद्रों के माध्यम से होता है जो सलमाबाद (उरी) जिला बारामूला और चक्कन दा बाद जिला पुंछ में स्थित है। मालूम हो कि यह कारोबार हफ्ते में चार दिन होता है और यह वस्तु विनिमय प्रणाली पर आधारित है एवं इसमें किसी भी प्रकार का कोई शुल्क भी नहीं लगता है।
गृह मंत्रालय ने आगे कहा, ‘ऐसे में यह फैसला किया गया कि जम्मू और कश्मीर में सलमाबाद और चक्कन दा बाग के रास्ते एलओसी ट्रेड को स्थगित किया जाएगा। साथ ही तमाम एजेंसियों के साथ बातचीत कर कड़ी निगरानी रखने के लिए एक तंत्र गठन किया जाएगा।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

श्रमिकों की कमी से जूझ रही कंपनियां ज्यादा सैलरी देकर भी बुलाना चाहती हैं काम पर

नई दिल्ली : कोरोना महामारी के कारण पलायन कर अपने घरों को लौट जाने वाले प्रवासी मजदूरों को अब निर्माण से जुडी कंपनियां अधिक सैलरी आगे पढ़ें »

जिंदल स्टेनलेस को वित्त-वर्ष 2019-20 में 153 करोड़ रुपए का मुनाफा

नई दिल्ली : जिंदल स्टेनलेस लिमिटेड (जेएसएल) ने 31 मार्च, 2020 को पूरे हुए वित्त-वर्ष के परिणाम घोषित किए हैं, कंपनी को वित्तवर्ष 2019-20 के आगे पढ़ें »

ऊपर