18 ट्रांसजेंडर उच्चतर माध्यमिक पाठक्रम की परीक्षा में उतीर्ण हुए

तिरुवनंतपुरम: केरल में ट्रांसजेंडर समुदाय के अठारह सदस्यों ने केरल राज्य साक्षरता मिशन प्राधिकरण (केएसएलएमए) द्वारा उच्चतर माध्यमिक समकक्षता पाठक्रम के लिए आयोजित परीक्षा उतीर्ण कर ली है, जिससे वे आगे की शिक्षा प्राप्त कर सकते हैं।

यह पहला बैच है जिसने उच्चतर माध्यमिक (12वीं कक्षा) समकक्ष परीक्षा उत्तीर्ण की है।
ट्रांसजेंडर नीति लागू करने वाले पहले राज्य केरल ने ट्रांसजेंडर समुदाय को मुख्य धारा में लाने के लिए केएसएलएमए और सामाजिक न्याय विभाग द्वारा 2018 में जारी एक सतत शिक्षा कार्यक्रम ‘समन्वय’ की शुरुआत की थी।

22 में से 18 लोग उतीर्ण हुए
केएसएलएमए की एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया कि पथनमथिट्टा, तिरुवनंतपुरम और कोल्लम समेत विभिन्न जिलों में कुल 22 लोगों ने परीक्षा में भाग लिया था, जिसमें से 18 उतीर्ण हुए। केएसएलएमए के सूत्रों ने बताया कि एक ऑटोरिक्शा चालक कार्तिक ने परीक्षा पास कर ली है, जिसे केरल विश्वविद्यालय के बीए इतिहास पाठक्रम में दाखिला मिल गया है। अब तक, ट्रांसजेंडर समुदाय के कुल 39 लोगों ने 10वीं कक्षा के समकक्ष पाठक्रम पास किया है और वर्तमान में 30 लोग इस पाठक्रम में पढ़ रहे हैं। विज्ञप्ति में कहा गया, ‘उच्चतर माध्यमिक समकक्षता पाठक्रम में 62 ट्रांसजेंडर लोग हैं।’

केंद्र सरकार विशेष कार्ड बनाने पर कर रही विचार
इससे पहले खबर आई थी कि केंद्र सरकार ट्रांसजेंडर लोगों को कल्याणकारी योजनाओं से जोड़ने के लिए विशेष कार्ड बनाने पर विचार कर रही है। सरकार द्वारा ट्रांसजेंडर लोगों के लिए हाल ही में गठित राष्ट्रीय परिषद में शामिल एक सदस्य ने इस बात की जानकारी दी कि इस कार्ड की मदद से उन्हें अनेक सामाजिक कल्याणकारी योजनाओं से जोड़ने में मदद मिलेगी। केंद्र सरकार ने अगस्त में ‘ट्रांसजेंडर व्यक्तियों के लिए राष्ट्रीय परिषद’ (एनसीटीपी) का गठन किया था, जिसका उद्देश्य समुदाय के सदस्यों के संबंध में नीतियां, कार्यक्रम, मसौदा विधेयक और परियोजनाएं तैयार करना है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

देव दीपावली पर रोशनी में नहाया काशी

वाराणसीः स्वर्गलोक से धरती पर पधार रहे देवताओं के स्वागत को काशी पूरी तरह सज-धज कर तैयार है। देव दीपावली को लेकर यही कहा जाता आगे पढ़ें »

सावधान! दांतों में हो रही ऐसी दिक्कत तो कोरोना…

नई दिल्लीः कोरोना वायरस का इंसान के दांतों पर भी बुरा असर देखने को मिल रहा है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, कोविड-19 की चपेट में आगे पढ़ें »

ऊपर