ये खबर दिल चीर डालेगी : 150 किमी. पैदल चली 12 साल की बच्ची, घर से 1 घंटा पहले मौत

हैदराबाद : चाइनीज वायरस कोरोना महामारी को रोकने के लिए जो लॉकडाउन लगाया गया है, उससे भी करोड़ों गरीब और मजदूरों के लिए भूख का संकट सिर पर खड़ा है। छत्तीसगढ़ के बीजापुर की रहने वाली एक बच्ची तेलंगाना के मुलुगू जिले में मिर्च से जुड़े काम में मजदूरी करती थी। जब लॉकडाउन बढ़ाया गया, तब 12 प्रवासी मजदूरों का एक ग्रुप पैदल ही घर जाने के लिए निकल पड़ा लेकिन किस्मत ने आखिरी मौके पर धोखा दे दिया और जब पैदल चलने का सफर पूरा होने वाला था और घर से सिर्फ एक घंटे की ही दूरी बची थी तो बच्ची ने दम तोड़ दिया। 15 अप्रैल को शुरू हुआ सफर 18 अप्रैल को हमेशा के लिए खत्म हो गया। इस हादसे ने हर किसी को झकझोर कर रख दिया है। डॉक्टरों की ओर से बच्ची का पोस्टमार्टम भी किया गया है, जिसके बाद अब डिटेल रिपोर्ट आने का इंतजार किया जा रहा है लेकिन शुरुआती रिपोर्ट्स से यह सिद्ध हो गया है कि 12 साल की जमलो मकदम कोरोना वायरस निगेटिव थी। डॉक्टरों का कहना है कि बच्ची की मौत शरीर में इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन की वजह से हुई, जिसके परिणामस्वरूप बच्ची को उल्टी-दस्त हो गए और पानी की कमी हो गयी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पीरियड्स में क्यों अपवित्र हो जाती हैं महिलाएं?

कोलकाताः हम सभी इस बारे में जानते हैं कि पीरियड्स के दौरान महिलाओं को पूजा करने, मंदिर जाने, खाना बनाने यहां तक कि कई घरों आगे पढ़ें »

क्या आप भी सोते समय सिरहाने रखते हैं यह चीज़ें? हो जाएं सावधान!

कोलकाताः अक्सर हमारी आदत होती है कि रात को सोते समय अपने सिरहाने, अर्थात तकिए के नीचे कुछ न कुछ चीजें रख लेते हैं। कभी-कभी आगे पढ़ें »

ऊपर