कोरोना आपात स्थिती के लिए रेलवे देशभर में बना रहा है 5 हजार विशेष कोच

5 हजार विशेष कोच बनाने के निर्देश 

लखनऊ : कोरोना वायरस संक्रमित रोगियों को रखने के लिये उत्तर रेलवे और उत्तर मध्य रेलवे 68 ट्रेनों में 680 पृथक कोच बना रहा है जहां एक साथ दस हजार से अधिक कोरोना संक्रमित रोगियों को रखा जा सकेगा। प्रत्येक ट्रेन में दस पृथक कोच होंगे, प्रत्येक कोच में आठ केबिन होंगे और हर केबिन में दो दो रोगियों को पृथक रखने की व्यवस्था होगी।
10880 कोरोना संक्रमित मरीज रखे जा सकेंगे
इस तरह इन 680 कोच में करीब 10880 कोरोना संक्रमित मरीज रखे जा सकेंगे। इन विशेष ट्रेनों के लिये विशेष कोच को बनाने का काम शुरू हो गया है और एक हफ्ते के अंदर यह विशेष डिब्बे तैयार हो जायेंगे। इन विशेष डिब्बों में उन रोगियों को रखने की व्यवस्था होगी जो कोरोना संक्रमित होंगे लेकिन उनके पास घर या अस्पताल में क्वारंटीन करने की जगह नहीं होगी। इन डिब्बों में रोगियों की देखभाल के लिये डाक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ की टीमें तैनात रहेंगी। यह विशेष ट्रेनें उन स्थानों पर प्लेटफार्म पर पहुंचेंगी जहां कोरोना वायरस संक्रमित रोगियों की संख्या अधिक होगी।
समूचे देश में ऐसे 5000 विशेष कोच बनाने के निर्देश
सूत्रों के अनुसार, रेलवे विभाग ने सभी रेलवे मंडलों को निर्देश दिये है कि समूचे देश में ऐसे 5000 विशेष कोच बनाये जायें ताकि किसी आपात स्थिति में अगर अस्पतालों में जगह न बचे तो दूर दराज के इलाकों में इन ट्रेनों के डिब्बो को पृथक वार्ड बनाकर वहां रोगियों को इनमें रखा जा सके। उत्तर रेलवे (एनआर) और उत्तर मध्य रेलवे (एनसीआर) के महाप्रबंधक राजीव चौधरी ने शुक्रवार को बताया कि ‘ कोरोना संक्रमण से निपटने के लिये उत्तर रेलवे और उत्तर मध्य रेलवे ने व्यापक स्तर पर तैयारियां शुरू कर दी हैं। उत्तर रेलवे में 39 ट्रेनों में 390 ऐसे विशेष कोच बनाये जा रहे है। हर ट्रेन में ऐसे केवल दस डिब्बे होंगे। हर डिब्बे में आठ केबिन होंगे और प्रत्येक केबिन में दो दो कोरोना संक्रमित रोगी रखे जायेंगे।’
एक डिब्बे में 16 कोरोना मरीज रखेंगे
उन्होंने बताया कि इसी तरह उत्तर मध्य रेलवे (एनसीआर) की 29 ट्रेनों में 290 विशेष पृथक कोच बनायें जा रहे हैं। इन डिब्बो में भी आठ-आठ केबिन होंगे और प्रत्येक केबिन में दो-दो रोगी रखे जा सकेंगे। इस तरह एक डिब्बे में 16 कोरोना पीड़ित रखे जा सकेंगे। चौधरी ने बताया कि इन सभी कोच में रखे जाने वाले रोगियों की जांच के लिये रेलवे के डाक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ की टीमें तैनात रहेंगी जो नियमित तौर पर रोगियों का परीक्षण करेंगी।
रेलवे करेगी सभी व्यवस्था
इसके साथ ही रोगियों की साफ सफाई और खाने पीने की व्यवस्था भी रेलवे द्वारा की जायेगी। उन्होंने एक बात साफ की कि इन कोच में केवल उन्हीं कोरोना संक्रमण रोगियों को रखा जायेगा जिनमें संक्रमण तो है लेकिन उनको सांस लेने में कोई दिक्कत नही है, अगर सांस लेने में किसी भी रोगी को कोई दिक्कत होगी तो उसे तुरंत किसी बड़े अस्पताल में भेज दिया जाएगा उत्तर मध्य रेलवे ने आइसोलेशन कोच के रूप में परिवर्तित करने के लिए कोचों में संशोधन कार्य शुरू कर दिया है।
14 अप्रैल तक पूरा करने का लक्ष्य
रेलवे बोर्ड ने उत्तर मध्य रेलवे को 290 कोच रूपांतरण का लक्ष्य दिया है और इसे 14 अप्रैल तक पूरा करने को कहा गया है। महाप्रबंधक एनसीआर ने बताया कि उत्तर मध्य रेलवे में प्रयाग कोचिंग डिपो प्रयागराज, कोचिंग डिपो कानपुर,आगरा कोचिंग डिपो आगरा,झांसी कोचिंग डिपो झांसी, तथा झांसी कारखाना कोच मिडलाइफ रिहैबिलिटेशन वर्कशॉप झांसी में इन विशेष पृथक कोच के रूपांतरण का काम हो रहा है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सन्मार्ग एक्सक्लूसिव :आर्थिक पैकेज से हर वर्ग को राहत, न अन्न की कमी, न धन की : ठाकुर

 विशेष संवाददाता, कोलकाता : कोविड-19 संकट के आघात से देश और देश की अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए केंद्र सरकार हरसंभव कोशिश कर रही है। आगे पढ़ें »

केंद्र और राज्यों को प्रवासियों को उनके घर पहुंचाने के लिए 15 दिन और : सुप्रीम कोर्ट

नयी दिल्ली : न्यायालय ने कहा कि सभी प्रवासी कामगारों को उनके पैतृक स्थानों तक पहुंचाने के लिये केन्द्र और राज्यों को 15 दिन का आगे पढ़ें »

ऊपर