नोएडा में दो सड़क हादसे में 10 की मौत,एक ही परिवार के 6 लोग शामिल

Car accident

ग्रेटर नोएडा : उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा में ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे पर रविवार देर रात सड़क दुर्घटना में एक ही परिवार के छह लोगों की मौत हो गई। हादसे में चालक,बच्‍चे और 4 महिलाएं शामिल थे। हादसे में 8 लोग गंभीर रुप से घायल हो गए थें जिन्हें सरकारी अस्पताल में भर्ती किया गया है। डाॅक्टरों ने चार घायलों की हालत नाजुक बताते हुए दिल्ली के ट्रामा सेंटर रेफर कर दिया है। यह दर्दनाक हादसा ग्रेटर नोएडा के थाना साइट-5 क्षेत्र में हुआ। ईको कार में 13 लोग सवार थे और सभी हरियाणा के बल्लभगढ़ से शादी समारोह से वापस लौट रहे थे। इसी दौरान तेज रफ्तार से आ रहे अज्ञात वाहन ने ईको कार को पीछे से टक्कर मार दी और फरार हो गया। पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

परिवार पर बरपा कहर

जानकारी के मुताबिक परिवार के सारे लोग बुलंदशहर के मीठापुर गुलावठी के निवासी थे। घटना के बाद परिवार के सभी सदस्यों के बीच मातम छाया हुआ है। मृतकों की पहचान 60 वर्षीया शमशीरा, यासीन (48), सुमाइला (15), शाकिर (25), रिहाना (18) और 28 वर्षीय फरजाना के रुप में हुई हैं। हादसे से घायल हुए सभी लोग आपस में रिश्तेदार बताए जा रहे हैैं। घायलों में 84 वर्षीय फरहान, रिहान (16), रुबियान (5), शबनम (38), अक्शा (6), मुशर्रफ (19) और सिदरा (11) के नाम शामिल हैं।

दूसरे हादसे में चार लोगों की मौत

नोएडा में ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे के अलावा सिकंदराबाद कोतवाली क्षेत्र के रामलाल गढ़ी के पास दूसरे सड़क हादसे की भी जानकारी मिली है। इस हादसे में चार लोगों की मौत हुई हैं। जानकारी के मुताबिक वैगनआर कार तेजी से ट्रक के पीछे जा घुसी जिसमें चार युवकों ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। एक युवक की हालत काफी गंभीर है। चारों युवक सवार लोहारली गांव के रहने वाले थे जिनके नाम पंकज, रामकुमार, राहुल, सुभबर था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में कोरोना के 1390 आये नये मामले

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 1390 नये मामले सामने आये आगे पढ़ें »

भारत में अल्पपोषित लोगों की संख्या छह करोड़ घटकर 14 प्रतिशत पर पहुंची : संयुक्त राष्ट्र

संयुक्त राष्ट्र : भारत में पिछले एक दशक में अल्पपोषित लोगों की संख्या छह करोड़ तक घट गई है। संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में आगे पढ़ें »

ऊपर