हिस्ट्रीशीटर को पकड़ने गयी पुलिस दल पर हमला, मुठभेड़ में तीन बदमाश ढेर, डीएसपी समेत 8 पुलिसकर्मियों की मौत

कानपुर : उत्तर प्रदेश में कानपुर में चौबेपुर क्षेत्र में पुलिस दल पर हमला करने वाले हिस्ट्रीशीटर बदमाश विकास दुबे गैंग के तीन सदस्यों को पुलिस ने मार गिराया है। पुलिस महानिरीक्षक मोहित अग्रवाल ने शुक्रवार को बताया कि कुख्यात अपराधी विकास दुबे के तीन साथियों को पुलिस ने मुठभेड़ में ढेर कर दिया है।  अभी इनकी शिनाख्त नही हुई है तीनों बदमाशों को पुलिस ने घटनास्थल से कुछ दूरी पर मार गिराया है। जिनसे पुलिस लूटी गई राइफल और पिस्टल बरामद हुई है।

अब तक तीन सब इंस्पेक्टर और चार सिपाही शहीद

ग्रामीणों के मुताबिक मारे गए बदमाश की पहचान अतुल और प्रेम प्रकाश के तौर पर की गयी है हालांकि पुलिस ने तीनों के नाम की पुष्टि नहीं की है। गौरतलब है कि चौबेपुर के बिकरू गांव में हिस्ट्रीशीटर बदमाश विकास दुबे को गुरुवार की आधी रात पकड़ने गई पुलिस टीम पर हमला कर दिया गया। घरों की छत से पुलिस पर गोलियां बरसाई गईं,जिसमें सीओ बिल्हौर देवेंद्र मिश्रा समेत तीन सब इंस्पेक्टर और चार सिपाही शहीद हो गए। हमले में सात पुलिसकर्मी घायल हुए हैं,जिन्हें कानपुर नगर के रीजेंसी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। घायलों में एक पुलिस कर्मी की हालत गंभीर बनी हुई है।

एसटीएफ की टीम को कार्रवाई के निर्देश

डीजीपी एचसी अवस्थी ने बताया कि विकास दुबे के खिलाफ कानपुर के राहुल तिवारी ने हत्या के प्रयास का केस दर्ज कराया था। इसके बाद पुलिस उसे पकड़ने के लिए बिकरू गांव गई थी। पुलिस को रोकने के लिए बदमाशों ने पहले से ही जेसीबी वगैरह से रास्ता रोक रखा था। अचानक छत से फायरिंग शुरू कर दी गई। वहीं, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एसटीएफ की टीम को कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। पुलिस ने यूपी के सभी बॉर्डर सील कर दिए हैं।
ये पुलिसकर्मी मारे गए
डीएसपी देवेंद्र मिश्र, एसआई अनूप कुमार सिंह, एसआई नेवूलाल, एसओ महेश चंद्र यादव, कॉन्स्टेबल सुल्तान सिंह, कॉन्स्टेबल राहुल, कॉन्स्टेबल जितेंद्र और कॉन्स्टेबल बबलू की मौत हो गई है। इसके अलावा बिठूर थाना प्रभारी कौशलेंद्र प्रताप सिंह समेत 7 पुलिसकर्मियों को गोली लगी है। इनका इलाज रीजेंसी हॉस्पिटल में चल रहा है।
कौन है हिस्ट्रीशीटर?

हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे उत्तरप्रदेश का कुख्यात बदमाश है। एसटीएफ ने विकास दुबे को 31 अक्टूबर 2017 को लखनऊ के कृष्णानगर क्षेत्र से विकास को गिरफ्तार किया था। कानपुर पुलिस ने उसके खिलाफ 25 हजार का इनाम घोषित कर रखा था। वह कुछ दिन पहले जेल से बाहर आया था।

60 से ज्यादा मामले दर्ज हैं

विकास ने 2001 में थाने में घुसकर भाजपा नेता और राज्यमंत्री संतोष शुक्ला की हत्या की थी। वह थाने में घुसकर पुलिसकर्मी समेत कई लोगों की हत्या कर चुका है। विकास पर 60 से ज्यादा मामले दर्ज हैं। वह प्रधान और जिला पंचायत सदस्य भी रह चुका है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

12 अगस्‍त को दुनिया की पहली कोरोना वैक्‍सीन होगी पंजीकृत

वायरस टीके के लिए रूस की जल्दबाजी ने पश्चिम में चिंताएं बढायीं मॉस्को : दुनियाभर में जहां कोरोना वायरस के मामलों में तेजी से बढ़ोतरी हो आगे पढ़ें »

बीसीसीआई का दावा, यूएई में आईपीएल कराने को केंद्र सरकार की हरी झंडी

नयी दिल्ली : भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) को इस साल इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में कराने की मंजूरी मिल गयी है आगे पढ़ें »

ऊपर