हम किसी की लकीर छोटी करने में यकीन नहीं करते – मोदी

नई दिल्ली : संसद में मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विपक्ष पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर हुई चर्चा के दौरान विपक्ष को जवाब दिया। उन्होंने विपक्ष की टिप्पणियों को लेकर कहा कि हम किसी की लकीर को छोटी करने में यकीन नहीं करते। साथ ही यह भी कहा कि मोदी ने कहा कि देश ने 2019 का जनादेश पूरी तरह कसौटी पर कसने, हर तराजू पर तौलने के बाद और पूरी जांच-परख के बाद दिया, जनता ने ‘सर्वजन हिताय, सर्वजन सुखाय’ की नीति का अनुमोदन किया। साथ ही उन्होंने कहा कि हमें सुरक्षित, मजबूत और समावेशी राष्ट्र के सपने को साकार करने के लिए साथ मिलकर चलना होगा

हमारा रास्ता जड़ों से ताकत पाकर देश को मजबूती देना

मोदी ने कहा कि हमने आम लोगों के कल्याण के लिए काम किया और आधुनिक अवसंरचना के विकास के लिए भी काम किया। विपक्ष के अभिभाषण के दौरान सरकार पर लगाए गए आरोपों के जवाब में मोदी ने कहा कि सदन में कहा गया कि हमारी ऊंचाई को कोई तौल नहीं सकता। हम ऐसी गलती नहीं करते। उन्होंने कहा कि हम किसी की लकीर छोटी करने में विश्वास नहीं करते, हम अपनी लकीर को लंबी करने में जिंदगी खपा देते हैं। उन्होंने विपक्षी दलों पर तंज कसते हुए कहा कि आपकी ऊंचाई आपको मुबारक हो, आप इतने ऊंचे चले गए कि आपको जमीन दिखनी बंद हो गई। जड़ों से उखड़ गए, जमीन पर जो हैं, वे आपको तुच्छ दिखते हैं। आपका और ऊंचा होना मेरे लिए अत्यंत संतोष का विषय है। मोदी ने कहा कि हमारा रास्ता जड़ों से ताकत पाकर देश को मजबूती देना है। हम इस प्रतिस्पर्धा में आपको शुभकामनाएं देते हैं कि आप और ऊंचे उठते जाएं।”

इमरजेंसी पर बोले मोदी यह दाग मिटने वाला नहीं
प्रधानमंत्री ने सदन में इमरजेंसी के दिन को याद करते हुए कहा कि लोगों को जानकारी है कि 25 जून को क्या है? उन्होंने कहा कि 25 जून की वह रात देश की आत्मा को कुचल दिया गया था। मोदी ने कहा कि भारत में लोकतंत्र संविधान के पन्नों से पैदा नहीं हुआ है, भारत में लोकतंत्र सदियों से हमारी आत्मा में है। आत्मा को कुचल दिया गया था। इमरजेंसी को न्यायपालिका का अनादर बताते हुए उन्होंने कहा कि ऐसा सिर्फ सत्ता को बचाने के लिए किया गया। उन्होंने अप्रत्यक्ष रूप से कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि जो इसमें शामिल थे वे जान लें कि यह दाग कभी मिटने वाला नहीं।

भारत रत्न परिवार के बाहर किसी को नहीं मिला

प्रधानमंत्री ने कांग्रेस को निशाने पर लेते हुए कहा कि “उनकी सरकारों में नरसिम्हा राव, मनमोहन को भारत रत्न मिला। परिवार से बाहर किसी को नहीं मिला। प्रणब दा ने देश के लिए जीवन खपाया। हमने उन्हें भारत रत्न उनके काम के लिए दिया। अब जब हम सवा सौ करोड़ देश वासियों की बात करते हैं तो उसमें सभी आते हैं।”

पूत के पांव पालने में दिखते हैं

लोकसभा मोदी का शायराना अंदाज भी दिखा। उन्होंने कहा कि छोटा सोचना मुझे पसंद नहीं है। ‘जब हौसला बना लिया ऊंची उड़ान का, तो देखना फिजूल है कद आसमान का।’ इस मिजाज के साथ हमें आगे के लिए नए हौसले, नए इरादों के साथ इस सरकार को चलाना है। मोदी ने एक कहावत का हवाला देते हुए कहा कि पूत के पांव पालने में दिखते हैं। अभी तीन सप्ताह हुए हैं। इस अरसे में हमने महत्वपूर्ण फैसले लिए। उन्होंने कहा कि हमने सेना के जवानों की छात्रवृत्ति की बढ़ाई, मानवाधिकारों से जुड़े अहम कानून संसद में लाने की तैयारियां पूरी की है।

मोदी ने कहा- 130 करोड़ भारतीयों के सपने मेरी नजर में

मोदी ने कहा कि हार-जीत के दायरे में चुनाव को देखना मेरी सोच का हिस्सा नहीं है। उनका कहना था कि उनकी नजर में 130 करोड़ भारतीयों सपने रहते हैं। प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि ‌2014 में जब देश की जनता ने अवसर दिया। तब पहली बार मुझे सेंट्रल हॉल में बोलने का अवसर मिला था। उनका कहना था कि उस वक्त मैंने कहा था कि हमारी सरकार गरीबों को समर्पित है। आज 5 साल के बाद मैं कह सकता हूं कि इस बात का संतोष मिला है।

राष्ट्रपति को अभिभाषण के लिए धन्यवाद दिया

मोदी ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को अभिभाषण के लिए धन्यवाद देते हुए कहा कि उन्होंने अपने भाषण में बताया कि हम भारत को कहां और कैसे ले जाना चाहते हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति महोदय ने बताया कि भारत के लोगों की आशा-आकांक्षाओं की पूर्ति के लिए प्राथमिकता क्या हो, इसका एक खाका खींचने का प्रयास किया। उन्होंने राष्ट्रपति के भाषण को आम आदमी की आशाओं की प्रतिध्वनि बताया है।

नए सांसदों का हौसला बढ़ाया

प्रधानमंत्री ने अपने सदन में कहा कि संसद में जो सांसद पहली बार आए हैं, उन्होंने अच्छे ढंग से अपनी बात को रखने की कोशिश की है और जो अनुभवी हैं, उन्होंने अपने-अपने तरीके से चर्चा को आगे बढ़ाया।” उन्होंने कहा कि सारी परिस्थितियों के बावजूद आपने बहुत बढ़िया ढंग से सारी चीजों को चलाया, इसके लिए भी आपको बधाई। उन्होंने नए लोकसभा अध्यक्ष का भी सहयोग के लिए आभार जताया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

कोलकाता में लॉजिस्टिक के लिए विश्व बैंक तैयार कर रहा मास्टर प्लान : अमित मित्र

परियोजना की​ लागत करीब 300 मिलियन डॉलर कोलकाता : कोलकाता मेट्रोपॉलिटन एरिया में जल्द ही लॉजिस्टिक के क्षेत्र में बड़ी संभावनाएं सामने आने वाली हैं। इसकी आगे पढ़ें »

अफवाहों पर ध्यान ना दें, हम सब एक हैं – विजयवर्गीय

कोलकाता : भाजपा के सांगठनिक चुनाव काे लेकर शनिवार को माहेश्वरी भवन में भाजपा की अहम बैठक की गयी। इस बैठक में भाजपा के राष्ट्रीय आगे पढ़ें »

ऊपर