स्पेस स्टेशन लॉन्चिंग की योजना बना रहा है भारत- इसरो प्रमुख

नई दिल्ली : भारत लगातार स्वदेशी तकनीक के दम पर अंतरिक्ष की ओर कदम बढ़ा रहा है। एक तरफ चंद्रयान-2 अंतरिक्ष में भेजने की तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है तो दूसरी ओर देश के वैज्ञानिक स्पेस स्टेशन लॉन्चिंग की योजना बना रहे हैं। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के प्रमुख डॉ. के. सिवन का कहना है कि भारत अब स्पेस स्टेशन लांच करने की योजना भी बना रहा है। मालूम हो कि कुछ महीने पहले देश ने एक सक्रिय उपग्रह को मिसाइल से नष्ट कर दुनिया को अपनी ताकत दिखाई थी।
गगनयान कार्यक्रम को बनाए रखना होगा
सिवन ने गुरुवार को बताया कि भारत अपनी महत्वाकांक्षी योजना गगनयान मिशन का विस्तार करते हुए स्पेस स्टेशन लॉन्च करने की योजना बना रहा है। सिवन का कहना है कि मानव अंतरिक्ष मिशन की लॉन्चिंग के बाद गगनयान कार्यक्रम को बनाए रखना होगा। यही वजह है कि भारत अपना स्पेस स्टेशन लॉन्च करने की योजना बना रहा है।
अमेरिका और रूस ने बनाया था पहला आईएसएस

मालूम हो कि इस समय में सिर्फ दो स्पेस स्टेशन हैं। वर्ष 1998 में पहले इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन (आईएसएस) की स्‍थापना की गई थी। इस अंतरिक्ष स्टेशन का निर्माण अमेरिका और रूस ने संयुक्त रूप से किया था। हालांकि बाद में कई अन्य देश भी इसके निर्माण में जुड़ते गए। फिलहाल आईएसएस के ज्यादातर नियंत्रणों और मॉड्यूल्स का खर्च अमेरिका उठाता है। पृथ्वी से करीब 400 किलोमीटर की ऊंचाई पर स्थित आईएसएस 28 हजार किमी की रफ्तार से घूमता रहता है। इस अंतरिक्ष स्टेशन पर अब तक 18 देशों के 230 लोग जा चुके हैं।

गौरतलब है कि चीन भी अंतरिक्ष में अपने 2 स्पेस स्टेशन को लॉन्च कर चुका है। उसने वर्ष 2011 में अपने पहले स्पेस स्टेशन को लांच किया था। इस स्पेस स्टेशन का नाम तियांगोंग-1 दिया गया। सिर्फ दो साल के लिए तैयार किया गया स्पेस स्टेशन पिछले साल 1 अप्रैल 2018 को धरती पर गिरकर नष्ट हो गया। चीन का दूसरा स्पेस स्टेशन तियांगोंग-2 वर्ष 2016 में  लॉन्च किया। फिलहाल यह अंतरिक्ष में मौजूद है। वहीं 2022 तक चीन तियांगोंग-3 को लॉन्च करने की तैयारी में है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

naqvi

नकवी बोले- अल्पसंख्यकों के लिए भारत स्वर्ग है, पाकिस्तान नर्क

नयी दिल्ली : केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने सोमवार को राष्ट्रीय अल्पसंख्यक विकास एवं वित्त निगम (एनएमडीएफसी) के रजत जयंती समारोह में आगे पढ़ें »

syria

तुर्की के हमले में सीरिया में 26 नागरिकों की मौत, अमेरिका भेज सकता है सेना

बेरूत : सीरिया में कुर्दों के खिलाफ तुर्की के हमले में रविवार को करीब 26 नागरिकों की मौत हो गई। एक युद्ध निगरानी संस्था ने आगे पढ़ें »

ऊपर