सुशांत केस : सीबीआई की जांच में अब तक क्या हुआ? जांच एजेंसी ने दिया जवाब

नई दिल्ली : एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत को 6 महीने से ज्यादा बीत चुके हैं। इस एक मामले की वजह से देश की सियासत भी गरमाई और लोग भी लगातार सोशल मीडिया पर एक बड़ी मुहिम का हिस्सा बनते गए। लेकिन कुछ समय से सीबीआई की तरफ से इस केस को लेकर ज्यादा कुछ नहीं बताया गया जिस वजह से सुशांत के तमाम फैन्स नाराज दिखे। बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने तो सीधे पीएमओ के नाम एक चिट्ठी लिख डाली। चिट्ठी के जरिए स्वामी ने सुशांत केस में अपडेट मांगा था।

सीबीआई ने दिया जवाब

अब सीबीआई की तरफ से सुब्रमण्यम स्वामी को जवाब दे दिया गया है। जांच एजेंसी ने पूरी तीन पेज की एक चिट्ठी जारी की है और विस्तार से बताया है कि उन्होंने सुशांत केस में गहन जांच की है और हर पहलू पर सटीकता से ध्यान दिया गया है। चिट्ठी में लिखा है- सीबीआई काफी पेशेवर तरीके से जांच कर रही है। हर तरह की आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल हो रहा है। जांच के दौरान सभी पहलुओं पर फोकस किया गया है। किसी भी एंगल को नजरअंदाज नहीं किया गया है। वहीं क्योंकि सीबीआई जांच के दौरान कहा गया था कि सुशांत के घर पर ठीक तरीके से तहकीकात नहीं की गई, अब इस पर भी सीबीआई ने अपना जवाब दिया है।

चिट्ठी में स्पष्ट शब्दों में कहा गया है कि देश की बेस्ट फॉरेसिंग टीम ने घटनास्थल पर जांच की थी। वे लिखते हैं- हमारी टीम और कई सीनियर अधिकारियों ने कई मौकों पर घटनास्थल का रुख किया था। कोशिश थी कि उस दिन की घटना को ठीक से समझा जा सके। वहीं चिट्ठी में उस सिम्युलेशन एक्सरसाइज का भी जिक्र किया गया है जिसके जरिए 14 जून वाली घटना को रिक्रिएट करने की कोशिश हुई थी। वैसे चिट्ठी में सीबीआई ने इस बात पर भी जोर दिया है कि सुशांत केस में उनकी जांच काफी व्यापक थी जिसे सिर्फ मुंबई तक सीमित नहीं रखा गया। एजेंसी के मुताबिक उन्होंने अलीगढ़, फरदीबाद, हैदराबाद, मुंबई, मानेसर और पटना का रुख किया था।

विवादों में रही ‘मर्डर थ्योरी’

वहीं सीबीआई ने स्वामी को अपनी चिट्ठी के जरिए पूरे केस का घटनाक्रम भी याद दिला दिया है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले से लेकर रिया के खिलाफ एफआईर तक, हर मुद्दे पर रोशनी डाली गई है। अब मालूम हो कि सीबीआई की तरफ से स्वामी को ये तीन पेज की चिट्ठी इसलिए लिखी गई है क्योंकि बीजेपी नेता ने लगातार इस केस के दौरान सीबीआई जांच की मांग की थी और बाद में कई मौकों पर जांच एजेंसी पर ही सवाल खड़े किए थे। सुशांत केस में स्वामी की मर्डर थ्योरी भी काफी विवादों में रहीं, ये अलग बात है कि उसे जांच के दौरान ही खारिज कर दिया गया।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

गणतंत्र दिवस: पहली परेड कब हुई थी? जानिए ऐसे सवालों के जवाब

गणतंत्र दिवस क्या है और ये क्यों मनाया जाता है? भारत 15 अगस्त 1947 को आज़ाद हुआ था और 26 जनवरी 1950 को इसके संविधान को आगे पढ़ें »

जानें मंगलवार के दिन किस उपाय को करने से मिलता है क्या लाभ

कोलकाता : मंगलवार का दिन बजरंगबली को समर्पित होता है। हनुमान जी एक ऐसे देवता हैं जिनकी पूजा में सावधानी बहुत जरूरी है। मंगलवार को आगे पढ़ें »

ऊपर