सुशांत केस :  अभिनेता के खाते से 15 करोड़ निकाले गये लेकिन रिया के खाते में डायरेक्ट ट्रांसफर नहीं

मौत के 24 दिन बाद भी मुंबई पुलिस ने ईडी को नहीं दिया सुशांत का फोन
मुंबई : अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के पिता केके सिंह ने रिया चक्रवर्ती तथा उनके परिवार पर अपने बेटे के खाते से 15 करोड़ रुपये की हेराफेरी का आरोप लगाया है। हालांकि जांच में अब तक प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को सुशांत के खाते से रिया के खाते में किसी तरह के डायरेक्ट ट्रांजेक्शन के सबूत नहीं मिले हैं लेकिन यह साबित हुआ है कि सुशांत के एक बैंक खाते से लगभग 15 करोड़ रुपए निकाले गये। सुशांत के कई खातों से नेट बैंकिंग और डेबिट कार्ड से हुए ट्रांजेक्शन की जांच जारी है। इस निकासी की मैपिंग कर यह पता लगाने में मदद मिलेगी कि पैसा कहां गया और इसके पीछे मकसद क्या था। ईडी को यह पता चला है कि सुशांत ने 2.78 करोड़ रुपये का टैक्स भरा था। इसमें जीएसटी भी शामिल था। यह बात भी सामने आयी है कि वह बहुत उदार थे और अक्सर जरूरतमंद करीबियों का भुगतान करने के लिए तैयार रहते थे।
ईडी यह पता लगाने की कोशिश कर रहा है कि सुशांत रिया और उनके भाई शोविक चक्रवर्ती के साथ बिजनेस में कैसे जुड़े। सुशांत की दो कंपनियों फ्रंट इंडिया फॉर वर्ल्ड फाउंडेशन और विविडवेज रियलिटी एक्स प्राइवेट लिमिटेड के डायरेक्टर रिया और शोविक हैं।
ईडी ने फोन के लिए मुंबई पुलिस को 4 लेटर लिखा : सुशांत केस में मुंबई पुलिस पर बड़ा आरोप लग रहा है कि उसने अभिनेता के फोन को फोरेंसिक जांच के लिए भेजने की बजाय तीन सप्ताह तक अपने पास रखा। देरी से मिलने के कारण फोरेंसिक लैब ने फोन की जांच करने से इनकार कर दिया था। अब पुलिस उस फोन को ईडी को नहीं दे रही है। सुशांत मामले में मनी लॉन्डरिंग एंगल से जांच कर रहे ईडी को अभिनेता के फोन और कॉल डिटेल्स की जरूरत है। इस बारे में मुंबई पुलिस को 4 लेटर लिखे जा चुके हैं लेकिन पुलिस की ओर से एक बार भी जवाब नहीं दिया गया। मुंबई पुलिस ने सुशांत का फोन उनकी मौत के 24 दिन बाद फोरेंसिक जांच के लिए भेजा था। इसी रिपोर्ट में यह लिखा गया है कि सबूत को फोरेंसिक लैब ने स्वीकार करने से इनकार कर दिया और मुंबई पुलिस से देरी को लेकर सवाल किया।
सुशांत के परिवार के वकील विकास सिंह का कहना है कि मुंबई पुलिस ईडी की जांच में अड़ंगा लगा रही है। मुंबई पुलिस ईडी को सुशांत का मोबाइल फोन देने से इनकार कर रही है जबकि मुंबई पुलिस ईडी को कोई भी चीज देने से इनकार नहीं कर सकती क्योंकि ईडी के अधिकार को माना जाता है। एफआईआर दर्ज होने के बाद उनके पास जांच का पूर्ण स्वतंत्र अधिकार होता है। मुंबई में अब तक कोई एफआईआर दर्ज नहीं हुई है, इसलिए वहां कोई जांच नहीं है।
घाटकोपर से भाजपा विधायक राम कदम ने फोन को फोरेंसिक के लिए भेजने में हुई देरी को लेकर सवाल उठाया है। उन्होंने अपने ट्वीट में कहा है कि सुशांत का फोन पुलिस ने अपने पास 24 दिन तक रखा था। फोरेंसिक लैब को नहीं दिया ? महाराष्ट्र सरकार सबूतों के साथ छेड़छाड़ कर रही है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

हालेप को इटालियन ओपन का खिताब

रोम : शीर्ष वरीयता प्राप्त सिमोना हालेप ने सोमवार को यहां कारोलिना पिलिसकोवा के चोट के कारण फाइनल में मैच के बीच से हट जाने आगे पढ़ें »

एक शॉर्ट रन ने मुझे काफी दर्द दिया : प्रीति जिंटा

'शॉर्ट रन' मामले पर पंजाब ने मैच रेफरी से की अपील, बोले- इस गलती के कारण हम प्ले ऑफ से हो सकते हैं नई दिल्ली : आगे पढ़ें »

ओलंपिक मेजबानी विवाद : आईओसी सदस्य के बेटे ने 2.72 करोड़ रूपये लिए

उपसभापति हरिवंश के साथ विपक्ष के बर्ताव ने बिहार की प्रतिष्ठा को चोट पहुंचायी

बिहार चुनाव : 10 हजार से अधिक का लेनदेन नहीं कर सकेंगे प्रत्याशी

taiwan

ग्‍लोबल टाइम्‍स की धमकी, कहा- अमेरिका से दोस्‍ती बढ़ाई तो ताइवानी राष्‍ट्रपति का कर देंगे सफाया

प्रजनेश आगे बढ़े, नागल फ्रेंच ओपन क्वालीफायर्स से बाहर

स्टोक्स की गैरमौजूदगी से राजस्‍थान के खिलाफ चेन्नई का पलड़ा भारी

10 बार ऑक्सीजन सिलेंडर के बिना एवरेस्ट को फतह करने वाले पर्वतारोही रीता शेरपा का निधन

donald trump

अमेरिकी राष्ट्रपति को ‘जहर वाला पत्र’ भेजने की आरोपी महिला गिरफ्तार

ऊपर