सीवीसी क्यों नहीं चला पा रहा 79 कर्मचारियों पर भ्रष्टाचार का मुकदमा ?

नयी दिल्ली : केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) चाहकर भी केंद्र सरकार के 79 कर्मचारियों पर भ्रष्टाचार का मुकदमा नहीं चला पा रहा है। इसका बड़ा कारण उसे पिछले चार महीने से ज्यादा समय से सरकारी मंजूरी मिलने में हो रही देरी है। इन कर्मचारियों में एक भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) का अधिकारी भी शामिल है।

विभागों की मंजूरी का इंतजार

एक वरिष्ठ सीवीसी अधिकारी ने कहा, ” इन मामलों पर चार महीने से ज्यादा समय बीत जाने से मंजूरी नहीं दी गई है। हमने इन अनुरोधों पर तेजी से काम करने के लिए सरकारी विभागों और बैंकों को रिमाइंडर भेजा है।” सीवीसी के ताजा आंकड़ों के अनुसार, कुल 41 मामले लंबित हैं, जिनमें आयोग को मुकदमा चलाने के लिए संबंधित सरकारी विभागों की मंजूरी का इंतजार है। सबसे ज्यादा नौ मामले कार्मिक मंत्रालय के पास मंजूरी के लिए लंबित पड़े हैं। कार्मिक मंत्रालय केंद्रीय कर्मचारियों के भ्रष्टाचार – रोधी मामलों में कार्रवाई करने का नोडल विभाग है। उत्तर प्रदेश सरकार के पास आठ मामले लंबित पड़े हैं।

इन मामलों में बैंकों के 13 कर्मचारी शामिल

आंकड़ों के मुताबिक, भारतीय स्टेट बैंक, केनरा बैंक, कॉर्पोरेशन बैंक और आईडीबीआई बैंक के पास चार मामले लंबित पड़े हैं। इन मामलों में बैंकों के 13 कर्मचारी शामिल हैं। इसी तरह भ्रष्ट कर्मचारियों से जुड़े तीन मामले केंद्र शासित प्रदेशों के पास लंबित हैं जबकि रक्षा मंत्रालय, खाद्य एवं आपूर्ति मंत्रालय, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण और शहरी विकास एवं गरीबी उन्मूलन मंत्रालय के पास दो – दो मामले मंजूरी के लिए पड़े हैं। बता दें कि नियमों के मुताबिक, मुकदमे चलाने के लिए चार महीने के भीतर फैसला लेना होता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

Bill Gates

भारतीय अर्थव्यवस्था में विकास करने की क्षमता, संकट दूर होगी : बिल गेट्स

नई दिल्‍ली: आर्थिक मंदी से जूझ रहे भारत और इस पर लगातार मोदी सरकार की हो रही खिंचाई के बीच माइक्रोसॉफ्ट के सह-संस्थापक और दुनिया आगे पढ़ें »

tiger

रानीबाग रेस्क्यू सेंटर में रखा जायेगा आदमखोर बाघ

ऋषिकेश : जिम कार्बेट टाइगर रिजर्व की ढिकाला रेंज के तुन भूजी क्षेत्र से शनिवार सुबह पकड़े गए बूढ़े आदमखोर बाघ को उसकी खतरनाक प्रवृत्ति आगे पढ़ें »

ऊपर