सीआरपीएफ काफिले पर हमला, 18 जवान शहीद

श्रीनगरः जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में गुरुवार को सीआरपीएफ के काफिले पर आतंकी हमले में 18 जवान शहीद हो गए, जबकि 15 अन्य घायल हो गए। पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इस कायरतापूर्ण हमले की जिम्मेदारी ली है। इस हमले के बाद से ही दक्षिण कश्मीर के कई इलाकों में सुरक्षा एजेंसियों द्वारा अलर्ट जारी किए गए हैं। गुरुवार शाम केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के जवानों पर अवंतिपोरा के गरीपोरा के पास हमला किया गया। सूत्रों के अनुसार, आतंकियों ने इस इलाके में पहले हाइवे खड़ी एक कार में प्लांट की गई आईईडी में ब्लास्ट किया और फिर सीआरपीएफ जवानों के वाहनों पर ऑटोमैटिक हथियारों से फायरिंग की गई। इस हमले में सीआरपीएफ का वाहन भी आईईडी ब्लास्ट की चपेट में आ गया।
दो हजार से अधिक जवान काफिले में थे शामिल
इस हमले के बाद जवानों को तुरंत श्रीनगर के अस्पताल में शिफ्ट करने का काम शुरू किया गया, लेकिन अस्पताल में ले जाते वक्त 18 जवान शहीद हो गए। इसके अलावा अन्य 10 से अधिक जवानों जवानों को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराकर इनका इलाज शुरू कराया गया। जिस काफिले पर यह हमला हुआ, वह जम्मू से श्रीनगर की ओर जा रहा था और इसमें 2 हजार से अधिक जवान शामिल थे।
कई जिलों में हाई अलर्ट
इस हमले की जानकारी मिलने के बाद तत्काल पुलवामा में मौजूद सेना, जम्मू-कश्मीर पुलिस और सीआरपीएफ की अन्य कंपनियों को अवंतिपोरा भेजा गया। आतंकी वारदात के बाद सेना ने फिलहाल जम्मू-श्रीनगर हाइवे पर ट्रैफिक बंद करते हुए अवंतिपोरा और आसपास के इलाकों में बड़ा तलाशी अभियान शुरू किया है। इसके अलावा पुलवामा, शोपियां, कुलगाम और श्रीनगर जिलों में हाई अलर्ट जारी किया गया है। हमले में घायल जवानों का इलाज लगातार जारी है और एजेंसियों के अधिकारी लगातार हालात पर नजर बनाए हुए हैं।
 
शेयर करें

मुख्य समाचार

दूरदर्शन में कोरोना से कैमरामैन का हुआ निधन, कार्यालय सील

नयी दिल्ली: कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए लागू लॉकडाउन के 66वें दिन शुक्रवार को दूरदर्शन के कैमरामैन योगेश कुमार के निधन के बाद आगे पढ़ें »

प्रवासी मजदूर हमारे अपने, कोरोना के वाहक नहीं : धनखड़

कोलकाता : पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने प्रवासी मजूदरों को कोरोना वायरस (कोविड 19) के वाहक के रूप में निरुपति किये जाने पर आगे पढ़ें »

ऊपर