श्री राम मंदिर की भूमि पूजा के लिये चित्रकूट के भरतकूप का आया जल

अयोध्या : अयोध्या में बनने वाले भगवान राम के मंदिर की नींव में इस्तेमाल करने के लिए देश के प्रमुख तीर्थ और मंदिरों की मिट्टी और नदियों के जल पहुंचाए जा रहे हैं और इसी कड़ी में चित्रकूट के भरतकूप से पवित्र जल का कलश श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास को सौंपा गया। चित्रकूटाधिपति मत्तगजेंद्रनाथ मंदिर के व्यवस्थापक प्रदीप तिवारी ने महंत नृत्यगोपालदास को कलश सौंपा। उनसे अनुरोध किया गया है कि राममंदिर पूजन में इस जल का भी प्रयोग किया जाए।

इसलिए यहां से लिया गया जल

प्रदीप तिवारी ने कहा कि प्रभु श्रीराम ने वनवास काल का साढ़े 12 साल से अधिक का समय चित्रकूट में बिताया था। आज भी तपोभूमि का कण-कण प्रभु श्रीराम की कृपा से अभिसिंचित है। अयोध्या में भव्य राम मंदिर का भूमि पूजन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा पांच अगस्त को किया जाना है। भरतकूप से मिले जल के कलश को महंत ने प्रणाम किया और आश्वासन दिया कि पूजन में भरतकूप के जल का प्रयोग अवश्य किया जाएगा। श्रीराम जब 14 साल के वनवास में थे तब भरत उन्हें वापस लाने चित्रकूट गये थे और अपने साथ अलग-अलग नदियों का जल एक कलश में ले गये थे ताकि वहीं श्री राम का राज्याभिषेक कर वापस ले आयें लेकिन श्री राम ने वनवास की अवधि पूरी हुये बिना जाने से इंकार कर दिया। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार उस जल को एक कुएं में डाल दिया गया जिसका नाम भरतकूप पड़ा। जिस तरह लोग गंगा का जल अपने साथ ले जाते हैं,उसी तरह भरत कूप का जल भी लोग अपने साथ ले जाते हैं। गंगा की तरह भरतकूप का जल भी कभी खराब नहीं होता।

शेयर करें

मुख्य समाचार

एकजुट होकर करें काम, दिल्ली ने दी भाजपा के बड़े नेताओं को चेतावनी

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : विधानसभा चुनाव करीब है और ऐसे समय में अलग - अलग होकर प्रदर्शन अथवा किसी अन्य तरह का काम करना नहीं चलेगा। आगे पढ़ें »

दूसरे दिन का आखिरी सत्र बारिश से धुला, भारत के दो विकेट गिरे

ब्रिसबेन : भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चौथे और आखिरी क्रिकेट टेस्ट के दूसरे दिन शनिवार को दो विकेट 62 रन बनाये। बारिश के आगे पढ़ें »

ऊपर