उत्तराखंड में वायु प्रदूषण फैलाने वाली शीशे की 22 फैक्ट्रियां बंद

देहरादून : प्रदेश के कुमांऊ क्षेत्र के ऊधमसिंह नगर जिले के काशीपुर इलाके में स्थित शीशे के पिंड(लेड इंगट) बनाने वाली करीब 22 फैक्ट्रियों को उत्तराखंड पर्यावरण संरक्षण एवं प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने बंद करने का आदेश दिया है। स्वास्थ्य की दृष्टि से खतरनाक माने जाने वाले लेड इंगट का उपयोग बैटरियां बनाने में किया जाता है। इससे प्रदूषण फैलने के अलावा स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं भी होती हैं।
प्रदूषण रोधी स्टैंडर्ड का पालन नहीं
काशीपुर में बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी सुभाष पंवार ने बताया, ‘‘इन फैक्ट्रियों के बारे में शिकायतें मिलने पर हमने निरीक्षण कराया तो पता चला कि वहां प्रदूषण रोधी स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर्स (एसओपी) का पालन नहीं किया जा रहा था और वायु प्रदूषण नियंत्रण यंत्रों का भी प्रयोग नहीं हो रहा था। ये इकाइयां खतरनाक पदार्थों को भी जमीन के अंदर दबा रही थीं जिससे भूमिगत जल के भी प्रदूषित होने का खतरा था।’’
लोगों को स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हुईं
पंवार ने बताया कि मुरादाबाद क्षेत्र में भी ऐसी शिकायतें मिली थीं कि इन फैक्ट्रियों के कारण हो रहे प्रदूषण से लोगों को स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हुईं। अदालती मामलों में उलझने के बाद इन इकाइयों को काशीपुर में स्थानांतरित किया गया। काशीपुर में भी इनसे फैल रहे वायु प्रदूषण के चलते इनका विरोध हुआ और इन्हें बंद कर दिया गया।
उत्पादन दोबारा शुरू करने की अनुमति मांगी
अधिकारी ने बताया कि नोटिस दिये जाने के बाद पिछले महीने इन सभी 22 इकाइयों को बंद कर दिया गया। हालांकि उन्होंने कहा कि कुछ इकाइयों ने बोर्ड से लेड इंगट का उत्पादन दोबारा शुरू करने की अनुमति मांगी है। इन इकाइयों ने कहा है कि उन्होंने अब एसओपी का उपयोग शुरू कर दिया है। पंवार ने कहा कि इन इकाइयों का निरीक्षण करने के बाद ही उनके अनुरोध पर विचार होगा।
मालूम हो कि असंगठित क्षेत्र की ये इकाइयां देश के विभिन्न हिस्सों से खरीदी गई पुरानी बैटरियों को भट्टी में पिघलाकर उनसे लेड इंगट का पुनुर्त्पादन करती थीं। बैटरी निर्माता अग्रणी कंपनियां उनसे ये लेड इंगट सस्ते दामों पर खरीद लेती थीं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सुस्त अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए सीआईआई ने बजट में की ये मांगें

नई दिल्ली : आगामी बजट में कॉन्फेडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्री ने केंद्र सरकार से कॉरपोरेट टैक्स की विभिन्न दरों की जगह अप्रैल 2023 तक बिना आगे पढ़ें »

सीएए और एनआरसी को लेकर मेयर ने बोला हमला

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : मेयर और मंत्री फिरहाद हकीम ने सीएए और एनआरसी को लेकर एक बार फिर केंद्र सरकार पर हमला बोला। रविवार को रक्तदान आगे पढ़ें »

ऊपर