शीर्ष न्यायालय के दो प्रसिद्ध वकीलों के घर पर सीबीआई का छापा

नई दिल्लीः खनन घोटाले के संबंध में बुलंदशहर के डीएम अभय सिंह के आवास पर छापेमारी के बाद अब सीबीआई ने शीर्ष न्यायालय के दो प्रसिद्ध वकील इंदिरा जयसिंह और आनंद ग्रोवर ‎पर अपना शिकंजा कसा है। केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) की टीम ने गुरुवार की सुबह जयसिंह और ग्रोवर के घर पर छापा मारा। मालूम हो कि यह छापेमारी विदेशी चंदों के मामले में उनके संस्थान ‘लॉयर्स कलेक्टिव पर चल रहें मामले को लेकर की गई है। सीबीआई अब दोनों वकीलों के घर पर गुरुवार को छानबीन करना शुरू करेगी। इस मामले में सीबीआई ने पहले ‌ही केस दर्ज कर लिया था।

क्या है मामला

सीबीआई ने गृह मंत्रालय की शिकायत के आधार पर एफसीआरए का उल्लंघन करने के आरोप में एक आपराधिक मामला दर्ज किया था। बता दें कि इंदिरा जयसिंह और आनंद ग्रोवर के ऊपर लॉयर्स कलेक्टिव पर विदेशी चंदा विनियमन कानून तोड़ने का आरोप है और इसी कारण से गृह मंत्रालय ने इसका लाइसेंस खारिज कर दिया था। इसी मामले पर तलाशी के दौरान जब आनंद ग्रोवर से बात करने की कोशिश की गयी तब उन्होंने सीबीआई द्वारा लगाए गए आरोपों को नकारते हुए बात करने से साफ मना कर दिया।

गृह मंत्रालय का आरोप

गृह मंत्रालय ने जयसिंह और ग्रोवर पर विदेश से कुछ रकम एकत्रित कर उनका इस्तेमाल एड्स बिल की मीडिया में वकालत करने का आरोप लगाया है। बता दें कि इस केस में इनके ही संस्थान लॉयर्स कलेक्टिव का नाम सामने आया था। केवल इतना ही नहीं इस बात का भी खुलासा हुआ था कि गैर सरकारी संगठन ने ही मुक्त व्यापार समझौता की रैली का आयोजन करके प्रायोजित धरने करवाए थे जो विदेशी चंदा विनियमन कानून के खिलाफ है।

छापेमारी पर भड़के केजरीवाल

सीबीआई के इस छापेमारी के बाद प्रतिक्रिया देते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर लिखा कि कानून को अपना काम करने देना चाहिए। लेकिन जो लोग कानून के बचाव में अपनी सेवा दे रहे हैं उन्हें इस तरह तकलीफ नहीं देनी चाहिए।

शेयर करें

मुख्य समाचार

लोगों में पीओके की आजादी के लिये ‘जुनून’ है : ठाकुर

जम्मू : केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने सोमवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त करने के बाद पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर आगे पढ़ें »

पिछले पांच-छह साल में बढ़े हैं दलितों पर अत्याचार : प्रशांत भूषण

नयी दिल्ली : भीम आर्मी द्वारा आयोजित संवाददाता सम्मेलन में सामाजिक कार्यकर्ता व वकील प्रशांत भूषण ने सोमवार को आरोप लगाया कि पिछले पांच-छह साल आगे पढ़ें »

ऊपर