शरजील इमाम बिहार से गिरफ्तार, दिल्ली पुलिस को सौंपा गया

जहानाबाद : नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) विरोधी कार्यकर्ता शरजील इमाम को मंगलवार को बिहार के जहानाबाद जिले से पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। शरजील कथित तौर पर भड़काऊ भाषण देने के मामले में देशद्रोह का मामला दर्ज किये जाने के बाद से फरार था। शरजील को यहां एक अदालत में पेश किया गया जिसने उसे ट्रांजिट रिमांड पर दिल्ली पुलिस को सौंप दिया।
जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के पीएचडी छात्र शरजील की उत्तर प्रदेश, असम, मणिपुर, अरुणाचल प्रदेश और दिल्ली समेत अनेक राज्यों की पुलिस तलाश कर रही थी। जहानाबाद के पुलिस अधीक्षक (एसपी) मनीष कुमार ने कहा कि कोको पुलिस थाना क्षेत्र से गिरफ्तार इमाम को मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट आर के रजक की अदालत में पेश किया गया जहां से उसे 36 घंटे के लिए ट्रांजिट रिमांड पर दिल्ली पुलिस को सौंप दिया गया। उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस इमाम को अपने साथ ले गयी है। एसपी ने कहा, ‘शरजील इमाम को दोपहर को उसके पैतृक निवास से गिरफ्तार किया गया। इमाम के छोटे भाई मुज्जमिल को पुलिस द्वारा पकड़ने और पूछताछ के कुछ घंटों बाद यह गिरफ्तारी हुई।’ अधिकारी ने और जानकारी देने से इनकार किया। हालांकि अपुष्ट सूत्रों ने कहा कि इमाम अपने पैतृक जिले में पिछली रात आया था और एक करीबी रिश्तेदार की सलाह पर एक मस्जिद में छिपा हुआ था पुलिस ने रविवार को उसके पैतृक घर पर भी छापे मारे थे लेकिन इमाम नहीं मिला था।

सात पुश्तें लग जाएंगी असम भारत से ऐसे नहीं कटेगा : शाह

वहीं, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शरजील के बारे में कहा है कि उसने जेएनयू के पूर्व छात्र नेता कन्हैया कुमार से ज्यादा ‘खतरनाक बयान दिया है।’ साथ ही उन्होंने आरोप लगाया कि सीएए को लेकर कांग्रेस भ्रम फैला रही है। शाह ने मंगलवार को रायपुर में भाजपा के कार्यालय कुशाभाऊ परिसर में कार्यकताओं से कहा, ‘इस देश के मुसलमान भाइयों को (विपक्षी दल) उकसा रहे हैं कि आपकी नागरिकता चली जाएगी।’ उन्होंने शरजील के भाषण का उल्लेख करते हुए कहा, ‘अब शरजील का बयान देखिए। वह कन्हैया कुमार से ज्यादा खतरनाक बोले कि चिकन नेक को काट दो असम भारत से कट जाएगा.. सात पुश्तें लग जाएंगी असम भारत से ऐसे नहीं कटेगा।’

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (फाइल फोटो)

कोई देश के टुकड़े करने की बात नहीं कर सकता : नीतीश कुमार

इस बीच इमाम की गिरफ्तारी पर प्रतिक्रिया देते हुए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि लोगों को प्रदर्शन करने का अधिकार है, लेकिन कोई देश के टुकड़े करने की बात नहीं कर सकता। उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि पुलिस को इमाम को गिरफ्तार करने में कानून के अनुसार कार्रवाई करनी चाहिए और अब अदालतें उचित कार्रवाई करेगी।

कैसी है शरजील इमाम की पृष्ठभूमि

देशद्रोह के आरोप में गिरफ्तार शरजील इमाम एक पढ़े- लिखे, दिशाहीन भटके युवक का सटीक उदाहरण है।
शरजील इमाम के फेसबुक पर उपलब्ध ब्योरे के मुताबिक उसने पटना के सेंट जेवियर हाईस्कूल से पढ़ाई पूरी करने के बाद दिल्ली के वसंतकुंज स्थित दिल्ली पब्लिक स्कूल से पढ़ाई की है। इसके बाद उसने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), बॉंबे से कंप्यूटर साइंस की पढ़ाई की। उसके बाद वह यूरोप के आईटी यूनिवर्सिटी ऑफ कोपेनहेगेन में प्रोग्रामर के पद पर काम कर चुका है। इतना ही नहीं, आईआईटी बॉंबे में सहायक शिक्षक के तौर पर भी वह अपना योगदान दे चुका है। शरजील इमाम के पिता अकबर इमाम बिहार में सत्तारूढ़ जनता दल (यू) के नेता हैं। अकबर इमाम जद(यू) के टिकट पर वर्ष 2005 में जहानाबाद से विधानसभा चुनाव लड़े थे। उस चुनाव में वह राजद के सच्चिदानंद यादव से हार गए थे। शरजील का एक छोटा भाई भी है, जिसके जहानाबाद से पूर्व सांसद अरुण कुमार से निकट संबंध हैं। सोशल मीडिया पर शरजील के कथित भड़काऊ भाषण का वीडियो वायरल होने के बाद उस पर मामला दर्ज किया गया था।

क्या कहा था शरजील इमाम ने

कथित वीडियो में उसे असम और पूर्वोत्तर को शेष भारत से काटने की बात करते सुना गया था। उसे वीडियो में कहते सुना गया,अगर पांच लाख लोग संगठित हो जाएं तो हम पूर्वोत्तर और भारत को स्थायी तौर पर काट सकते हैं। अगर ऐसा नहीं तो कम से कम एक महीने या आधे महीने के लिए ही सही। रेल पटरियों और सड़कों पर इतना मवाद डाल दो कि वायुसेना को इसे साफ करने में एक महीना लग जाए।’ शरजील वीडियो में कह रहा है, असम को (शेष भारत से) काटना हमारी जिम्मेदारी है, तभी वे (सरकार) हमारी बात सुनेंगे। हम असम में मुसलमानों की स्थिति जानते हैं। उन्हें डिटेंशन कैंपों में रखा जा रहा है।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

किराना सामानों से भी घर में आ सकते हैं वायरस, बरतें सावधानी

नई दिल्ली : कोरोना के दौर पूरा देश लॉकडाउन पर है, लेकिन कुछ जगहें ऐसी हैं, जहाँ जाए बिना काम नहीं चलता। वो है किराना आगे पढ़ें »

कोरोना रोगियों के प्लाज्मा से होगा कोरोना रोगियों का इलाज, ट्रायल शुरू

नई दिल्ली : केरल सरकार की ओर से गठित एक मेडिकल टास्क फ़ोर्स ने कोरोना महामारी से निपटने के लिए प्लाज़्मा थेरेपी का इस्तेमाल कारगर आगे पढ़ें »

ऊपर