साइना ने इंडोनेशिया मास्टर्स खिताब जीता

बीच मैच से हटी मारिन
जकार्ताः शीर्ष भारतीय शटलर साइना नेहवाल ने रविवार को यहां इंडोनेशिया मास्टर्स के फाइनल में तीन बार की विश्व चैम्पियन कैरोलिना मारिन के पैर में चोट के कारण हटने से दो साल में पहला बीडब्ल्यूएफ खिताब अपने नाम किया। लंदन ओलंपिक की कांस्य पदकधारी शुरूआती गेम में 4-10 से पिछड़ रही थी, तब मारिन ने मैच से हटने का निर्णय लिया। साइना ने पिछला बीडब्ल्यूएफ खिताब 2017 में मलेशिया में जीता था। साइना को 2016 रियो ओलंपिक में घुटने में गंभीर चोट लगी थी। उन्होंने कहा ‘हम सभी के लिये यह साल काफी अहम है। यह देखना इतना अच्छा नहीं था। यह दर्दनाक हैं। मैं पिछले कुछ वर्षों में काफी चोटिल होती रही हूं और कोर्ट पर यह सब देखना सचमुच दर्दनाक है।’
खेल ही ऐसा है कि चोट को मात देना पड़ता है
उन्होंने कहा ‘मैं जानती हूं कि मानसिक रूप से यह कैसा होता है क्योंकि जब ओलंपिक में मुझे घुटने की चोट लगी थी तो मैं बहुत निराश थी। मैं बहुत रो रही थी। इसलिये मैं जानती हूं कि एक खिलाड़ी के लिये इस तरह की चोटों से गुजरना कितना मुश्किल होता है लेकिन खेल ही ऐसा है।’ भारतीय खिलाड़ी ने पिछले साल पैर में चोट के बाद वापसी करते हुए यहां शानदार प्रदर्शन किया।
मैं खुद के प्रदर्शन से हैरान थी
उन्होंने कहा ‘मैंने पूरे दिसंबर ब्रेक लिया। मैं इस प्रतियोगिता में यह देखने के लिये खेली कि मैं कितनी अच्छी हूं और मैं खुद के प्रदर्शन से हैरान थी। चोट के बाद सिंधू के खिलाफ मेरा मैच पीबीएल में एक जनवरी को था। मैंने किसी तरह की ट्रेनिंग नहीं की थी। डाक्टरों ने मुझे किसी तरह की ट्रेनिंग नहीं करने के लिये कहा था।’ उन्होंने कहा ‘लेकिन आज मुझे जिस तरह से खिताब मिला, उससे मैं खुश नहीं हूं। निश्चित रूप से मैं खुश हूं कि मैं फाइनल्स तक पहुंच सकी और वो भी ही बिंगजाओ जैसी कठिन प्रतिद्वंद्वी को हराकर। दोनों टूर्नामेंट में मैं अपने प्रदर्शन से खुश हूं। नोजोमी ओकुहारा, बिंगजाओ, दिनार (दया अयुस्टीन) को हराना शानदार है।’
जो कुछ हुआ वो दुर्भाग्यपूर्ण था
अठाईस वर्षीय हैदराबादी ने कहा ‘फाइनल्स में निश्चित रूप से कैरोलिना ने बढ़त बनायी हुई थी और मैं उसके खिलाफ जूझना चाहती थी कि यह मैच किस तरफ जाता लेकिन जो कुछ हुआ वो दुर्भाग्यपूर्ण था।’ ओलंपिक चैम्पियन मारिन खिताब की प्रबल दावेदार थी। इस मैच से पहले साइना के खिलाफ उनका जीत का रिकार्ड 6-5 था। पिछले हफ्ते कुआलालम्पुर में मलेशिया मास्टर्स के सेमीफाइनल में उन्होंने साइना को भी हराया था। स्पेन की यह खिलाड़ी अच्छी फार्म में थी, उन्होंने आक्रामक बैडमिंटन खेला लेकिन दुर्भाग्यपूर्ण चोट ने उन्हें मैच से हटने के लिये बाध्य कर दिया। जब वह 9-2 से बढ़त बनाये थीं, वह कोर्ट पर बुरी तरह अपने दायें पैर पर गिर गयी और दर्द से अपने घुटने को पकड़े थीं। चिकित्सीय टाइम आउट के बाद मारिन ने खेलना जारी रखने की कोशिश की लेकिन वह रोते हुए फिर गिर गयीं। वह तब मैच के शुरूआती गेम में 10-4 से बढ़त बनाये थीं और लंगड़ाते हुए स्टेडियम से बाहर निकल गयी, उनकी आंखों से आंसू निकल रहे थे। साइना के लिये यह एक और शानदार प्रदर्शन रहा, वह पिछले हफ्ते मलेशिया मास्टर्स के सेमीफाइनल तक पहुंची थी। अब वह आल इंग्लैंड चैम्पियनशिप में खेलेंगी जिसमें वह अभी तक खिताब अपने नाम नहीं कर सकी हैं।
मुझे समय की जरूरत
साइना ने कहा ‘मैं इस पर अभी टिप्पणी नहीं करना चाहूंगी क्योंकि मैं इस बात से खुश हूं कि ये दोनों टूर्नामेंट सकारात्मक रहे लेकिन मैं जानती हूं कि मुझे ताई जु की बराबरी करने और बड़े टूर्नामेंट के लिये तैयार होने के लिये और समय की जरूरत होगी।’ उन्होंने कहा ‘इसमें अभी एक और महीना है, इसलिये देखते हैं क्या होता है। वहां के हालात थोड़े अलग धीमे होंगे। ’ साइना ने 2018 राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण, एशियाई खेलों में कांस्य पदक जीतने के अलावा डेनमार्क, इंडोनेशिया मास्टर्स और सैयद मोदी अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट के फाइनल में प्रवेश किया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

shah

अमित शाह का पूर्वोत्तर को आश्वासन, अनुच्छेद 371 नहीं किया जाएगा रद्द

ईटानगर : केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पूर्वोत्तर की अनोखी संस्कृति की रक्षा के लिए सरकार की प्रतिबद्धता को दोहराते हुए गुरूवार को कहा आगे पढ़ें »

beaten

बालू लेकर जा रहे ट्रकों को रोकने पर सरकारी अधिकारियों की लाठी-डंडों से पिटाई

खड़गपुर : पश्चिम बंगाल के पश्चिमी मिदनापुर जिले में बालू लदे ट्रक को रोकने पर अधिकारियों के पीटे जाने का मामला सामने आया है। बताया आगे पढ़ें »

ऊपर