जागरुकता से बड़ी कोई देशभक्ति नहीं होतीः प्रियंका

गांधीनगर: कांग्रेस महासचिव बनने के बाद प्रियंका गांधी ने आज पहली बार भाषण दिया। गुजरात के गांधीनगर में कांग्रेस कार्य समिति की बैठक के बाद रैली में प्रियंका गांधी ने मोदी सरकार पर खूब बरसीं। इस दौरान प्रियंका ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सवालों के कटघरे में खड़ा किया। प्रियंका ने कहा कि मोदी सरकार ने देश के युवाओं को दो करोड़ रोजगार देने का वादा किया था, लेकिन आज रोजगार कहां है? प्रियकां ने कहा कि ये सरकार पहले महिलाओं की बात करती थी, लेकिन अब उन्हें ही नहीं पूछती। करीब 10 मिनट के अपने भाषण में प्रियंका गांधी ने जनता से कहा कि जागरुकता से बड़ी कोई देशभक्ति नहीं होती।
वर्तमान स्थिति को देखकर दुख होता है
अपने भाषण शुरु करने से पहले प्रियंका गांधी ने कहा कि मैं भाषण नहीं दूंगी बल्कि दो शब्द बोलूंगी। प्रियंका ने कहा ‘मैं पहली बार गुजरात आई हूं। पहली बार साबरमती आश्रम गई, जहां से गांधी जी ने आजादी का आंदोलन शुरू किया। आश्रम में प्रार्थना करते हुए आंसू आ गए और उन लोगों की याद आई, जिन्होंने देश के लिए जीवन दिया।’ उन्होंने कहा ‘ये देश प्रेम सद्भावना और आपसी प्यार के आधार पर बना है। इसलिए आज देश में जो हो रहा है उसे देखकर दुख होता है।’
आपकी जागरूकता एक हथियार है
प्रियंका ने आगे कहा ‘आपकी जागरूकता एक हथियार है। आपका वोट एक हथियार है। जागरूक होना ही देशभक्ति है।’ उन्होंने कहा ‘वोट का हथियार आपको मजबूत बनाएगा। आने वाले दो महीनों में कई मुद्दे आपके सामने आएंगे लेकिन फिजूल के मुद्दे नहीं उठने चाहिए।’ प्रियंका गांधी ने कहा ‘नौजवानों को रोजगार, महिलाओं की सुरक्षा, किसानों की बात असली चुनावी मुद्दे हैं। आपकी जागरूकता ही इन मुद्दों को आगे ला सकती है। ये आपकी जिम्मेदारी है।’
पांच वर्षों में महिलाओं को किसने पूछा?
भाषण में प्रियंका गांधी ने मोदी सरकार से कई सवाल पूछे। उन्होंने कहा ‘मोदी सरकार ने युवाओं को दो करोड़ रोजगार देने का वादा किया था, रोजगार कहां हैं?, आपके खाते में 15 लाख रुपए डालने का वादा किया था, क्या हुआ? महिला सुरक्षा की बात की थी, पांच सालों में महिलाओं को किसने पूछा? सही सवाल करिए, क्योंकि आने वाले दिनों में बहुत से मुद्दे उठाए जाएंगे।
ये लड़ाई भी आजादी की लड़ाई से कम नहीं
प्रियंका ने कहा ‘देश की फितरत है कि जर्रे जर्रे में सच्चाई है। नफरत की हवा को प्रेम और करुणा में बदलेगी। सही निर्णय करिए, सही मुद्दे उठाइए, सही सवाल कीजिए। देश किसी और का नहीं किसानों, महिलाओं का है। यही देश की हिफाजत करते हैं।’ उन्होंने कहा ‘ये लड़ाई भी आजादी की लड़ाई से कम नहीं है। संस्थाएं नष्ट की जा रही है। नफरत फैलाई जा रही है।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

दूरदर्शन में कोरोना से कैमरामैन का हुआ निधन, कार्यालय सील

नयी दिल्ली: कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए लागू लॉकडाउन के 66वें दिन शुक्रवार को दूरदर्शन के कैमरामैन योगेश कुमार के निधन के बाद आगे पढ़ें »

प्रवासी मजदूर हमारे अपने, कोरोना के वाहक नहीं : धनखड़

कोलकाता : पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने प्रवासी मजूदरों को कोरोना वायरस (कोविड 19) के वाहक के रूप में निरुपति किये जाने पर आगे पढ़ें »

ऊपर