दृष्टिबाधित मोबाइल ऐप से पहचान सकेंगे नोट

नई दिल्लीः भारतीय रिजर्व बैंक दृष्टिबाधितों को नोटों की पहचान करने में सहूलियत देने की तैयारी कर रहा है। इसके लिए आरबीआई मोबाइल फोन आधारित समाधान खोज रहा है। वर्तमान में, नेत्रहीनों को नोट पहचानने के लिए 100 रुपये और उससे ऊपर के नोटों की छपाई इस रूप से उभरते रूप (इंटैग्लियो प्रिंटिंग) में होती है, जिससे वे स्पर्श कर उसे पहचान सकें।

देश में करीब 80 लाख दृष्टिबाधित लोग
फिलहाल देश में 10, 20, 50, 100, 200, 500 और 2000 रुपये के नोट चलन में हैं। देश में करीब 80 लाख दृष्टिबाधित लोग हैं, जिन्हें केंद्रीय बैंक की नई पहल से फायदा मिल सकता है। आरबीआई ने जून 2018 में घोषणा की थी कि वह नेत्रहीनों द्वारा मुद्रा की पहचान करने में मदद करने के लिये उचित उपकरण या तंत्र की व्यवहार्यता का पता लगायेगा। इसी तर्ज पर अब आरबीआई ने भारतीय मुद्रा के मूल्यवर्ग की पहचान के लिये तंत्र/उपकरण विकसित करने के लिये वेंडरों से रुचि पत्र मंगाए हैं। निविदा दस्तावेज में कहा गया है कि हाथ से चलने वाला यह उपकरण/तंत्र नोटों के मूल्यवर्ग की पहचान करने में सक्षम होना चाहिए। जब भी बैंक नोट को इसके सामने/पास/इसके अंदर या उससे होकर गुजारा जाए तो कुछ ही सेकंड (दो सेकंड या उससे भी कम समय में हिंदी/अंग्रेजी में मूल्यवर्ग की जानकारी मिलनी चाहिए अर्थात् यह पता चलना चाहिए कि नोट कितने का है।

समाधान पूरी तरह से सॉफ्टवेयर आधारित
समाधान पूरी तरह से सॉफ्टवेयर आधारित हो सकता है, जो मोबाइल फोन या हार्डवेयर की मदद से या दोनों के संयोजन से चलने में सक्षम हो। यदि समाधान हार्डवेयर आधारित समाधान हो तो बैटरी से चलने वाला, रिचार्ज हो जाने वाला, छोटा और पकड़ने में आरामदायक हो। साथ ही उसे अतिरिक्त रोशनी की जरूरत नहीं होनी चाहिए।




शेयर करें

मुख्य समाचार

thakre

वीर सावरकर देश के पहले प्रधानमंत्री होते तो नहीं होता पाकिस्तान का जन्म : उद्धव ठाकरे

मुंबई : शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने मंगलवार को कहा कि ‌अगर वीर सावरकर इस देश के प्रधानमंत्री होते तो पाकिस्तान का जन्म भी नहीं आगे पढ़ें »

नई कारों को चलाने के शौकीन हैं तो अब यहां मिलेगी लीज पर कार

नई दिल्लीा : भारत में प्रीमियम कारों की अग्रणी विनिर्माता होंडा कार्स इंडिया लिमिटेड (एचसीआईएल) ने अपनी नई कार लीजिंग सर्विस को लॉन्च करने की आगे पढ़ें »

ऊपर