11 दिन, 11 बयान और ले लिया गया बदला

नई दिल्लीः 14 फरवरी को पुलवामा आतंकी हमले में 40 सीरआपीएफ जवानों की शहादत के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को यह आश्वासन दिया था कि भारतीय जवानों की शहादत का पूरा बदला लिया जाएगा और उसके बाद उन्‍होंने जो कहा, वो कर दिखाया। मंगलवार सुबह भारतीय वायुसेना ने एलओसी पार कर आतंकी ठिकानों को तबाह कर दिया। भारत ने 21 मिनट के भीतर आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के कई लॉन्चपैड नष्ट कर दिए।
प्रधानमंत्री ने भरी हुंकार
14 फरवरी को आतंकी हमले के बाद प्रधानमंत्री मोदी लगातार पुलवामा हमले का जवाब देने की बात करते रहे। देखिए कब-कब प्रधानमंत्री मोदी ने पाक के खिलाफ भरी हुंकार।
– 15 फरवरी को प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मैं आतंकी संगठनों को और उनके सरपरस्तों को कहना चाहता हूं कि वो बहुत बड़ी गलती चुके हैं। 15 फरवरी को प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं देश को भरोसा देता हूं कि हमले के पीछे जो ताकतें हैं, इस हमले के जो भी गुनहगार हैं, उन्हें उनके किए की सजा अवश्य मिलेगी।
– 15 फरवरी को प्रधानमंत्री ने दिल्ली में टी18 ट्रेन को हरी झंडी दिखाते हुए कहा कि सैनिकों में और विशेषकर सीआरपीएफ में जो गुस्सा है, वो देश भी समझ रहा है। इसलिए सुरक्षाबलों को खुली छूट दी गई है।
– 15 फरवरी को झांसी में मोदी ने कहा कि इन शहीदों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। आतंकी संगठनों ने, आतंक के सरपरस्तों ने जो गुनाह किया है, वो चाहे जितना छिपने की कोशिश करें, उन्हें सजा जरूर दी जाएगी।
– प्रधानमंत्री ने 16 फरवरी को कहा था कि महाराष्ट्र के विदर्भ में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा था कि ये संयम का समय है, संवेदनशीलता का समय है, ये शोक का समय है, लेकिन हर परिवार को मैं ये भरोसा देता हूं कि हर आंसू का जवाब लिया जाएगा।
– प्रधानमंत्री मोदी ने 16 फरवरी को बिहार के पटना में कहा था कि भारत की ये नीति रही है कि हम किसी को छेड़ते नहीं हैं, लेकिन मैं फिर साफ कर दूं कि नए भारत को किसी ने छेड़ा तो वो छोड़ता भी नहीं है। हमारे बहादुर सुरक्षा बल, बंदूक चलाने वाला हो या बंदूक पकड़ाने वाला, बम दागने वाला हो या फिर बम देने वाला, किसी को चैन से सोने नहीं देंगे।
– प्रधानमंत्री ने 18 फरवरी को अर्जेंटीना राष्ट्रपति मैरिसियो मैक्री के साथ ज्वाइंट प्रेस कांफ्रेंस में कहा था कि अब सारी दुनिया को आतंकवाद और उसके समर्थकों के विरुद्ध एकजुट होकर ठोस कदम उठाने की आवश्यकता है। आतंकवादियों और उसके मानवता विरोधी समर्थकों के खिलाफ कार्यवाही से हिचकना भी आतंकवाद को बढ़ावा देना है।
– 19 फरवरी को काशी में मोदी ने कहा पिछले हफ्ते पुलवामा में बर्बर आतंकवादी हमला हुआ, इस मानवता विरोधी खतरे से दुनिया पर छाए कहर की एक और क्रूर निशानी है। इस खतरे से प्रभावशाली ढंग से निपटने के लिए हम इस बात पर सहमत हैं कि आतंकवाद को किसी भी प्रकार का समर्थन दे रहे देशों पर सभी संभव दबाव बढ़ाने की आवश्यकता है।
– 20 फरवरी को प्रधानमंत्री ने सऊदी प्रिंस के साथ समझौते के बाद मोदी ने कहा कि आतंकवाद का इंफ्रास्ट्रक्चर नष्ट करना और इसको समर्थन समाप्त करना और आतंकवादियों और उनके समर्थकों को सजा दिलाना बहुत जरूरी है।
– 24 फरवरी को मन की बात में पीएम मोदी ने कहा कि जवानों की यह शहादत आतंकवाद को समूल नष्ट करने के लिए हमें निरंतर प्रेरित करेगी और संकल्प को और मजबूत करेंगे।
– हमलावारों को उन्हीं के भाषा में जवाब दिया जाएगा। आतंकियों के सफाए का संकल्प ले रखा है। मन की बात में पीएम ने यह भी कहा कि पुलवामा के आतंकी हमले में, वीर जवानों की शहादत के बाद देश-भर में लोगों को, और लोगों के मन में, आघात और आक्रोश है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

टोक्‍यों ओलंपिक में खिलाड़ियों का पूरा समर्थन करेगा देश : कोविंद

नयी दिल्ली : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शनिवार को कहा कि 24 जुलाई से नौ अगस्त तक आयोजित 2020 टोक्यो ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व आगे पढ़ें »

बुकर पुरस्कार विजेता जोखा अल हार्सी पहुंचीं जयपुर साहित्य महोत्सव में, लेखन चुनौतियों का जिक्र किया

जयपुरः ओमान की लेखिका एवं बुकर पुरस्कार विजेता जोखा अल हार्सी के लिए लेखन का सबसे दिलचस्प और चुनौतीपूर्ण पहलू समाज में मौजूद अनसुनी और आगे पढ़ें »

ऊपर