33वें सूरजकुंड हस्तशिल्प मेला का आज से हुआ आगाज

फरीदाबाद : प्रतिवर्ष 15 दिन तक चलने वाला सूरजकुंड मेले का आयोजन एक फरवरी से शुरू हो गया है। शिल्प और कला का अंतरराष्ट्रीय संगम कहे जाने वाले सूरजकुंड मेला देश-विदेश की संस्कृति से रूबरू कराने को तैयार हो गया है। पर्यटकों को एक तरफ जहां हस्तशिल्पियों की अलग-अलग कलाओं के दर्शन होंगे, चौपाल पर सांस्कृतिक रंग बिखरेंगे। साथ ही मेले में नेपाल, अफगानिस्तान, उजबेकिस्तान, किर्गिस्तान, जिम्बाब्वे, तुर्की, सीरिया, दक्षिण अफ्रीका, भुटान, युगांडा, सूडान, केन्या, फिलीस्तीन, मोरेक्को, मिस्त्र, ट्यूनीशिया के कलाकार रंग जमाएंगे। उद्घाटन के साथ 33वें सूरजकुंड मेले का शुभारंभ हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने किया। वहीं लोक कलाकारों ने अलग-अलग प्रस्तुति देकर खूब रंग जमाया। हरियाणा तथा महाराष्ट्र के कलाकारों ने सांस्कृतिक रंग बिखेरे। अंबाला शहर से आईं निशा, कुसुम, खुशी, ईशा, सिमरन, रिया, गिन्नी तथा सुरुचि ने घूमर नृत्य प्रस्तुति से छाप छोड़ी तो दिनेश रोहण, पंकज, पृथ्वी राज पाटिल, स्वाति, अस्मिता और शिवानी ने शिवाजी महाराज की प्रार्थना के साथ नृत्य प्रस्तुति दी। इस अवसर पर केंद्रीय पर्यटन मंत्रालय के सचिव योगेंद्र त्रिपाठी ने बताया कि मेला हस्तशिल्प कला और भारतीय परंपराओं को आगे बढ़ाने का मौका देता है। मालूम हो कि सूरजकुंड हस्तशिल्प मेला, भारत की एवं शिल्पियों की हस्तकला का 15 दिन चलने वाला मेला लोगों को ग्रामीण माहौल और ग्रामीण संस्कृति का परिचय देता है। यह मेला हरियाणा राज्य के फरीदाबाद शहर के दिल्ली के निकटवर्ती सीमा से लगे सूरजकुंड क्षेत्र में प्रतिवर्ष लगता है। यह मेला लगभग ढाई दशक से आयोजित होता आ रहा है। वर्तमान में इस मेले में हस्तशिल्पी और हथकरघा कारीगरों के अलावा विविध अंचलों की वस्त्र परंपरा, लोक कला, लोक व्यंजनों के अतिरिक्त लोक संगीत और लोक नृत्यों का भी संगम होता है।

इस बार मेला में थाईलैंड की कला संस्कृति भी रहेगी
33 वें इंटरनेशनल सूरजकुंड हस्तशिल्प मेले में इस बार की थीम स्टेट महाराष्ट्र है। साथ ही पार्टनर कंट्री के रूप में थाईलैंड अपनी कला संस्कृति को मेले में पेश करेगा। मेला परिसर को मराठा लोक संस्कृति से सजाया गया है। महाराष्ट्र के ऐतिहासिक दर्शनीय पर्यटन स्थल, महाराष्ट्र के अपना घर में लोक संस्कृति और खानपान भी दिखाई देगा। शनिवारवाड़ा थीम पर अपना घर तैयार किया जा रहा है। महाराष्ट्र के अलावा विभिन्न प्रदेशों की सांस्कृतिक धरोहरों की झलक भी देखने को मिलेगी।

सफाई के लिए 14 टीम गठित की गई है
मेला प्रशासन ने मेला परिसर की साफ-सफाई पर विशेष जोर दिया है। मेला परिसर को 9 जोन में बांटकर सफाई के लिए पर्यटन निगम के अधिकारियों के नेतृत्व में करीब 14 टीम गठित की हैं, जिसमें करीब 500 सफाई कर्मचारियों को शामिल किया गया है। जो मेला परिसर के अलावा मेले के बाहर और पार्किंग आदि में भी साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखेंगे। इसके अलावा नगर निगम भी अपने सफाई कर्मचारियों और सफाई निरीक्षकों की डयूटी लगाई है।

युवाओं के लिए 10 जगहों पर सेल्फी का इंतजाम
मेले में सबसे ज्यादा युवा घूमने के लिए आते है। मेले में आने वाले युवाओं को लुभाने के लिए सेल्फी पॉइंट तैयार किया जा रहा है। मेले के अंदर मुख्य 10 जगहों पर सेल्फी पॉइंट बनाकर तैयार कर दिये गए हैं, जहां पर लोग सेल्फी ले सकते हैं। हरियाणा के अपना घर को भी सजाने का काम अंतिम चरण में है।

पार्किंग की पर्याप्त व्यवस्था
सूरजकुंड मेले में पार्किंग की पर्याप्त व्यवस्था की गई है। गेट नंबर एक पर वीआईपी पार्किंग बनाई गई है। इसके अलावा आमजन के लिए रोडवेज बस स्टॉफ से लेकर दिल्ली गेट के आसपास कई पार्किंग स्थल बनाए गए हैं। ताज वेवांता होटल, मीडिया सेंटर गेट के पास भी पार्किंग बनाई गई है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राहुल ने ठोका आईपीएल 2020 का पहला शतक, पंजाब ने बेंगलुरु को 97 रन से हराया

किंग्स इलेवन की आईपीएल में दूसरी सबसे बड़ी जीत दुबई : आईपीएल के 13वें सीजन के 6वें मैच में किंग्स इलेवन पंजाब ने रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु आगे पढ़ें »

अंकिता रैना फ्रेंच ओपन क्वालीफायर से बाहर

पेरिस : भारत की अंकिता रैना गुरुवार को यहां दूसरे दौर में जापान की कुरुमी नारा के खिलाफ सीधे सेटों में हार के साथ फ्रेंच आगे पढ़ें »

ऊपर