30 रुपये सस्ता हुआ बिना सब्सिडी वाला एलपीजी सिलेंडर

नई दिल्ली : घरेलू रसोई गैस के सब्सिडी वाले सिलेंडर की कीमत को 1.46 रुपए सस्ती हो गई। जबकि बिना सब्सिडी वाले सिलेंडर का दाम 30 रुपये घटा है। देश की सबसे बड़ी रसोई गैस कंपनी इंडियन ऑयल ने एक बयान में कहा कि गुरुवार को मध्यरात्रि से दिल्ली में सब्सिडी वाले 14.2 किलोग्राम के गैस सिलेंडर की कीमत 493.53 रुपए होगी जो अभी 494.99 रुपए है। इसी तरह बिना सब्सिडी वाले 14.2 किलोग्राम के सिलेंडर की कीमत भी 30 रुपए घटकर अब 659 रुपए प्रति सिलेंडर की गई है। सरकारी पेट्रोलियम ईंधन वितरण कंपनियों ने रसोईं गैस सिलेंडर के दाम में एक माह में लगातार तीसरी बार कमी की है। इसकी मुख्य वजह इस ईंधन पर कर का भार कम होना है। इससे पहले एक दिसंबर को सब्सिडी वाले सिलेंडर पर 6.52 रुपए और एक जनवरी को 5.91 रुपए की कटौती की गई थी। एलपीजी के दामों में कमी की अहम वजह अंतरराष्ट्रीय बाजार में इसकी कीमत घटना और अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपये की स्थिति में सुधार होना है। एलपीजी ग्राहकों को सिलेंडर बाजार कीमत पर लेने होते हैं। सरकार एक उपभोक्ता को साल में अधिकतम 12 सिलेंडर पर सब्सिडी देती है। सब्सिडी हर महीने अलग-अलग हो सकती है जो विदेशी मुद्रा विनिमय और अंतरराष्ट्रीय बाजार में एलपीजी की कीमतों के औसत के अनुसार तय की जाती है। इस कटौती के बाद सब्सिडी वाले सिलेंडरों के ग्राहकों को उनके खाते में फरवरी में 165.47 रुपए प्रति सिलेंडर की दर से सब्सिडी मिलेगी। जनवरी में यह राशि 194.01 रुपए थी।

इस कारण आता है सब्सिडी में अंतरदरअसल टैक्स नियमों के तहत सरकार एलपीजी पर ईंधन के बाजार मूल्य के हिसाब से वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) लगाती है। इसके बाद सरकार एलपीजी सिलेंडर के महज मूल दाम पर सब्सिडी देती है, लेकिन जीएसटी की वसूली बाजार मूल्य के हिसाब से ही की जाती है। इसके चलते ही खाते में आने वाली सब्सिडी में बहुत अंतर दिखाई देता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अगले हफ्ते से लोगों को लग सकता है रूस का स्पुतनिक का टीका

जुलाई से भारत में ही होगा उत्पादन नई दिल्ली : देश को जल्द ही एक और वैक्सीन मिल जाएगी। नीति आयोग के सदस्य डॉक्टर वीके पॉल आगे पढ़ें »

परिवार का कोई सदस्‍य हो गया है कोरोना पॉजिटिव तो घबराएं नहीं, इन 5 बातों का रखेंगे ख्याल

कोलकाता : देशभर में कोरोना का कहर जारी है। रोज संक्रमण के मामले रिकार्ड बना रहे है। मरीजों की बढ़ती संख्या की वजह से देश आगे पढ़ें »

ऊपर