राहुल गांधी पहुंचे वायनाड, आज करेंगे नामांकन

वायनाड : लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान मिशन दक्षिण को साधने के लिहाज से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी गुरुवार को केरल के वायनाड पहुंचे हैं। आज कांग्रेस अध्यक्ष अपना नामांकन दाखिल करेंगे। राहुल इस बार दो सीटों से चुनाव लड़ रहे हैं, केरल की वायनाड और उत्तर प्रदेश का अमेठी। बताया जा रहा है कि कांग्रेस की तैैयारी इस नामांकन को मेगा शो बनाने की हैं। इस दौरान उनके साथ कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा भी रह सकती हैं। मालूम हो कि कांग्रेस के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने अपनी दादी इंदिरा गांधी और मां सोनिया गांधी के नक्‍शे कदम पर चलते हुए दक्षिण भारत से चुनावी जंग लड़ने जा रहे हैं। राहुल गांधी ने इसके लिए केरल की अल्‍पसंख्‍यक बहुल वायनाड लोकसभा सीट को चुना है। कांग्रेस पार्टी को उम्‍मीद है कि केरल, कर्नाटक और तमिलनाडु के ट्राइ जंक्‍शन पर बसे वायनाड से राहुल गांधी के चुनाव लड़ने से उसे तीनों ही राज्‍यों में फायदा होगा। इससे पहले वर्ष 2009 के लोकसभा चुनाव में केरल की 20 सीटों में से 16 सीटों पर कांग्रेस पार्टी ने जीत दर्ज की थी। हालांकि कांग्रेस की इस रणनीति को विश्‍लेषक ‘चुनावी जुआ’ करार दे रहे हैं जिसमें गंभीर खतरे छिपे हुए हैं।
राहुल का मुकाबला तुषार वेल्लापली से होगा
वहीं दूसरी तरफ तुषार वेल्लापली यहां से राहुल गांधी के खिलाफ चुनावी मैदान में होंगे।पहले चरण में होने वाले लोकसभा चुनावों के लिए केरल की वायनाड सीट से भारत धर्म सेना के अध्यक्ष तुषार वेल्लापली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की ओर से नामांकन दाखिल कर दिया है। इसके पहले पहली अप्रैल को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने केरल के वायनाड से राहुल गांधी के खिलाफ भारतीय जनता पार्टी ने अपने सहयोगी दल का उम्मीदवार मैदान में उतार का ऐलान कर दिया था। अमित शाह ने ट्विट करते हुए कहा था कि, भारत धर्म जनसेना के तुषार वेल्लापली के नाम राजग उम्मीदवार के तौर पर वायनाड से घोषणा करते हुए मुझे खुशी हो रही है। विकास और सामाजिक न्याय के प्रतिनिधि के तौर पर वो एक युवा चेहरा हैं केरल में राजग एक राजनीतिक विकल्प के रूप में उभरेगा।
वायनाड में कांग्रेस दो बार जीत हासिल की है
मालूम हो कि कांग्रेस नेताओं के मुताबिक पार्टी की केरल इकाई की ओर से अनुरोध किए जाने के बाद राहुल गांधी ने वायनाड से चुनाव लड़ने का फैसला किया। राहुल गांधी ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के खिलाफ विपक्षी एकता को संकट में डालते हुए भी इस सीट से चुनाव लड़ने जा रहे हैं। दरअसल, इसकी एक बड़ी वजह यह है कि राहुल गांधी को दक्षिण भारत में काफी समर्थन हासिल है। इसके अलावा वायनाड में कांग्रेस पार्टी ने दो बार जीत हासिल की है। पिछले लोकसभा चुनाव में पार्टी को बहुत कम वोटों से जीत मिली थी लेकिन अब पार्टी को उम्‍मीद है कि राहुल के मैदान में आने से वह आसानी से जीत जाएगी। कांग्रेस ने यह भी दावा किया है कि राहुल गांधी का वायनाड से चुनाव लड़ना उनकी दक्षिण के लोगों के जुड़ने की कोशिश है। विश्‍लेषकों के मुताबिक राहुल के वायनाड जाने के पीछे एक बड़ी वजह यह है कि पार्टी को एकजुट रखा जाए। कांग्रेस जब सत्‍ता में होती है तो यह आसानी हो जाता है लेकिन जब वह सत्‍ता से बाहर होती है तो उसे खुद को एकजुट रखना बेहद मुश्किल होता है। अपने इस ‘मास्‍टरस्‍ट्रोक’ के जरिए कांग्रेस पार्टी वर्ष 2014 की करारी शिकस्‍त के बाद फिर से पार्टी की स्थिति को मजबूत करना चाहती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बढ़त के साथ खुले आज शेयर बाजार, इन शेयरों में दिखी तेजी

नई दिल्ली : आज सप्ताह के पहले दिन शेयर बाजार बढ़त के साथ खुले हैं और शुरुआती कारोबार में भी तेजी दिखी। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज आगे पढ़ें »

इन नए नियमों के साथ आज से खुलेगा ऐतिहासिक न्यू मार्केट

कोलकाता : 2 महीने से अधिक हो चुके आखिरकार आज से ऐतिहासिक न्यू मार्केट खुलने जा रहा है। दुकानदार और खरीदार के दौरान कोरोना का आगे पढ़ें »

ऊपर