वित्तीय संकट के चलते जेट एयरवेज के अब तक 23 विमान परिचालन से बाहर

Fallback Image

नई दिल्लीः किराया नहीं देने के कारण जेट एयरवेज के दो और विमान खड़े कर दिए हैं। इस तरह कंपनी के अब 23 विमान हो गए, जो परिचालन योग्य नहीं है। अब जेट एयरवेज के बेड़े के करीब 20 फीसदी विमान परिचालन से बाहर हो गए हैं। बताया जा रहा है कि जेट एयरवेज वित्तीय समस्याओं से जूझ रहा है।
यात्रियों के साथ नागर विमानन महानिदेशालय को भी इस संबंध में नियमित जानकारी दी जा रही है। इससे पहले जेट एयरवेज ने किराया नहीं चुकाने की वजह से 27 फरवरी और 28 फरवरी को क्रमश: सात और छह विमान खड़े किए थे।
कंपनी ने शनिवार को बताया कि लीज समझौते के तहत लीज पर विमान देने वाली कंपनियों को पैसा नहीं दे पाने की वजह से दो और विमानों को परिचालन से बाहर करना पड़ा। साथ ही यह भी कहा कि किराये पर विमान देने वाली सभी कंपनियों से सक्रिय रूप से बातचीत किया जा रहा है। उन्हें नकदी की स्थिति को सुधारने की दिशा में उठाए जा रहे कदमों के बारे में नियमित जानकारी दी जा रही है। जेट एयरवेज ने कहा कि इन विमानों के खड़े होने की वजह से नेटवर्क में जो भी परेशानियां आ रही हैं, उन्हें कम-से-कम करने के सभी प्रयास हो रहे हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सन्मार्ग एक्सक्लूसिव :आर्थिक पैकेज से हर वर्ग को राहत, न अन्न की कमी, न धन की : ठाकुर

 विशेष संवाददाता, कोलकाता : कोविड-19 संकट के आघात से देश और देश की अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए केंद्र सरकार हरसंभव कोशिश कर रही है। आगे पढ़ें »

बैडमिंटन : मंत्रालय की गाइडलाइंस के बाद कोर्ट पर उतरे लक्ष्य

नयी दिल्‍ली : स्पोर्ट्स ऑथोरिटी ऑफ इंडिया (साई) की गाइडलाइंस के बाद बेंगलुरु में पादुकोण-द्रविड़ सेंटर ऑफ एक्सीलेंस अकादमी में बैडमिंटन खिलाड़ियों ने प्रैक्टिस शुरू आगे पढ़ें »

ऊपर